भारत के इस शहर में सबसे पहले दौड़ेंगी इलेक्ट्रिक कैब

अब तक आपने पेट्रोल और डीज़ल इंजन वाली कैब (टैक्सी) में ही सफर किया है, लेकिन जल्द ही आप इलेक्ट्रिक कैब में भी सफर कर पाएंगे। इलेक्ट्रिक कैब की शुरूआत इसी महीने की 26 तारीख से नागपुर में हो रही है, इसके लिए महिन्द्रा कंपनी महाराष्ट्र सरकार को 200 इलेक्ट्रिक कारें उपलब्ध कराएगी।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कुछ समय पहले कहा था कि नागपुर में इलेक्ट्रिक कैब का ट्रायल 24 मई से शुरू होगा, लेकिन अब इसकी तारीख को दो दिन आगे बढ़ाया गया है, अब इसकी शुरूआत मोदी सरकार के तीन वर्ष पूरे के मौके पर 26 मई को होगी।

कुछ समय पहले केंद्रीय विद्युत मंत्री पीयूष गोयल ने साल 2030 तक देश में इलेक्ट्रिक कारों का इस्तेमाल काफी बढ़ने की संभावनाएं जताई थी, ऐसे में नागपुर म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन का यह कदम आगे के लिए सकारात्मक माहौल पैदा करेगा।

हालांकि महिन्द्रा ने अभी तक यह नहीं बताया है कि वो इस प्रोजेक्ट के लिए कौन सी कारें उपलब्ध कराएगी, संभावना है कि ई-वेरिटो या ई2ओ प्लस में से किसी एक को इस प्रोजेक्ट के लिए चुना जा सकता है। ई2ओ प्लस में 210एएम बैटरी लगी है, फुल चार्ज में यह 140 किमी का सफर तय कर सकती है। ई-वेरिटो में 200एएच बैटरी लगी है, फुल चार्ज में यह 110 किमी का सफर तय कर सकती है। फास्टर अडॉप्शन एंड मैन्यूफैक्चरिंग ऑफ हाइब्रिड एंड इलेक्ट्रिक व्हीकल (फेम) स्कीम के तहत भारत सरकार की ओर से इन दोनों कारों पर सब्सिडी दी जा रही है, ई-वेरिटो 1.38 लाख रूपए और ई2ओ प्लस 1.24 लाख रूपए की सब्सिडी मिल रही है। ई-वेरिटो की कीमत 9.5 लाख रूपए और ई2ओ प्लस की कीमत 5.46 लाख रूपए (एक्स-शोरूम, दिल्ली) है।

कारदेखो

भारत के इस शहर में सबसे पहले दौड़ेंगी इलेक्ट्रिक कैब