नागपंचमी आज: ऐसे लोग जरुर चढाएं नाग देवता पर दूध

नई दिल्ली(28 जुलाई): देशभर में आज नागपंचमी का पर्व मनाया जा रहा है। यह पर्व हर साल श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है। इस दिन दूध लावा चढ़ाकर नाग देवता की पूजा किए जाने का विधान है।

-श्रद्धालु नाग देवता पर दूध चढ़ाते हैं व धान के लावा का भोग लगाकर सुख-समृद्धि का आशीर्वाद मांगते हैं।

- नागपंचमी का दिन उन व्यक्तियों के लिए विशेष हैं, जिनके जन्म कुंडली में कालसर्प योग है। इस दिन कालसर्प दोष का निवारण करने से विशेष लाभ मिलता है।

- नागपंचमी के अवसर पर शिव मंदिरों में पूजा का विशेष प्रबंध किया जाता है। इस दिन कालसर्प दोष का निवारण करने के लिए कई स्थानों पर सामूहिक पूजा की व्यवस्था भी की जाती है। उत्तराखंड के हरिद्वार और महाराष्ट्र के वर्सोवा और कुर्ला में बड़े पैमाने पर पूजा का आयोजन किया गया है।

- ज्योतिष के जानकारों के अनुसार, जब व्यक्ति की कुंडली में सभी ग्रह राहु और केतु के बीच में होते हैं तब कालसर्प दोष लगता है। कालसर्प दोष के कारण व्यक्ति की जिंदगी में बहुत तरह की परेशानी आती है। इससे जीवन में मेहनत के बावजूद बड़ी सफलता मिलने में दिक्कत आती है। अगर व्यक्ति सफल भी हो जाए तो एक समय ऐसा आता है जब आसमान से जमीन पर गिरने जैसी स्थिति का सामना करना पड़ता है।

- धार्मिक आस्था है कि व्यक्ति की जन्मकुंडली में कालसर्प दोष है तो उसे इसका निवारण अवश्य करा लेना चाहिए। इससे लाभ मिलता है और जीवन में आने वाली अनावश्यक बाधाओं से मुक्ति मिलती है।

- जिन लोगों को नाग से डर लगता है वह भी इस दिन नागदेवता की पूजा कर निर्भय पाते हैं। पंडितों के मुताबिक अगर किसी को सांप से डर लगता है या सपने में सांप दिखाई देते हों, तो उन्हें नागपंचमी के दिन विधि-विधान से सांप की पूजा करनी चाहिए। इससे सांपों का डर दूर हो जाता है और सपने में भी सांप नहीं आते।