नागालैंड में गहराया राजनीतिक संकट, पूर्व मुख्यमंत्री ने किया सरकार बनाने का दावा

दिल्ली (9 जुलाई): नागालैंड में राजनीति संकट गहरा गया है। सत्तारूढ़ नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) में आंतरिक कलह की वजह से नगालैंड सरकार के समक्ष संकट पैदा हो है। मुख्यमंत्री शुरहोजेली लीजीत्सु ने अपने इस्तीफे की मांग के बाद दस संसदीय सचिवों को बर्खास्त कर दिया है। पूर्व मुख्यमंत्री टीआर जेलियांग के शनिवार को राज्यपाल पीबी आचार्य को एक पत्र लिखकर नई सरकार बनाने के दावा किया है। इसके बाद मुख्यमंत्री ने यह कदम उठाया है।

जेलियांग ने दावा किया है कि उन्हें एनपीएफ के 33 विधायकों और सात निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल है। अपने इस्तीफे की मांग के बाद लीजीत्सु ने एनपीएफ के चार विधायकों व छह निर्दलीय विधायकों को संसदीय सचिव के पद से बर्खास्त कर दिया। लीजीत्सु एनपीएफ प्रमुख हैं। नगालैंड सरकार ने जेलियांग को सलाहकार (वित्त) और नुकलोतोशी को मुख्यमंत्री के सलाहकार के पद से बर्खास्त करने की अधिसूचना जारी कर दी है।

विधायकों को बर्खास्त करने के अलावा एनपीएफ की अनुशासन कार्रवाई समिति ने शनिवार को दस विधायकों को पार्टी का प्राथमिक व सक्रिय सदस्यता से निलंबित कर दिया। निलंबित किए जाने वालों में गृहमंत्री यांथुगो पैटन, विद्युत मंत्री किपिली संगतम, राष्ट्रीय राजमार्ग व राजनीतिक मामलों के मंत्री जी.कातिओ आई, वन व पर्यावरण मंत्री इमकोंग एल. इमचेन के अलावा विधायक शितोई, नुकलोतोशी, डेओ नुकु, नईबा कोन्याक, बेंजोंगलिबा व पूर्व मुख्यमंत्री जेलियांग शामिल हैं।