खूबसूरत हसीना के कारण खाली हुआ गांव, 170 सालों से है रूहानी ताकतों का कब्जा

जयपुर (11 फरवरी): राजस्थान का कुलधरा गांव अपने आप में रहस्यमयी है। यह गांव 171 सालों से वीरान पड़ा है। कहा जाता है कि खंडहर में तब्दील हो चुका अब यह गांव रूहानी ताकतों के कब्जे में हैं। 

आज भी सुनाई देती हैं महिलाओं के चुड़ियों की आवाजें माना जाता है कि 170 पहले यहां रहने वाले पालीवाल ब्राह्मणों की आहट आज भी सुनाई देती है। उन्हें वहां हरपल ऐसा अनुभव होता है कि कोई आसपास चल रहा है। बाजार के चहल-पहल की आवाजें आती हैं, महिलाओं के बात करने, उनकी चूड़ियों और पायलों की आवाजें यहां के माहौल को भयावह बनाती हैं।

क्यों खंडहर बना यह गांव सालम सिंह इस गांव का अय्याश दीवान था, जिसकी गंदी नजर गांव की एक खूबसूरत लड़की पर पड़ गई थी। दीवान उस लड़की के पीछे इस कदर पागल था कि किसी तरह उसे पा लेना चाहता था। दीवान ने लड़की के घर संदेश भिजवाया कि यदि अगले पूर्णमासी तक उसे लड़की नहीं मिली तो वह गांव पर हमला करके लड़की को उठा ले जाएगा।

एक श्राप से आज तक नहीं बस सका ये गांव इसके बाद पंचायत ने फैसला किया कि कुछ भी हो जाए, अपनी लड़की उस दीवान को नहीं देंगे और रातोंरात सभी कहीं चले गए। जाते-जाते उन्होंने श्राप दिया कि आज के बाद इन घरों में कोई नहीं बस पाएगा। आज भी वहां की हालत वैसी ही है, जैसी उस रात थी, जब लोग इसे छोड़ कर गए थे। यहां के लोग कहां गए कोई नहीं जानता।

रिसर्च टीम ने बताया कि यहां हैं आत्माएं दिल्ली की पैरानॉर्मल सोसायटी की टीम फरवरी 2014 में कुलधरा गांव पहुंची। भूतों को डर को खत्म करने के लिए सोसायटी के 18 सदस्य एवं अन्य 10-12 लोग रात में कुलधरा गांव में रहे। जब इस टीम ने अपने मशीन से टेस्ट किया तो तब कुछ आवाजें आईं, कई आत्माओं ने अपने नाम भी बताए।

हैरान कर देगा नजारा इस गांव में प्रवेश करते ही ऐसा प्रतीत होता है मानो आप किसी दूसरी ही दुनिया में आ गए हों। गांव में मिट्टी से बना एक प्रवेश द्वार है। लेकिन इसके बाद जो नजर आता है वह दिन के उजाले में भी काफी भयावह प्रतीत होता है। यही कारण है कि कोई यहां जाने की हिम्मत नहीं करता।