मुस्लिम युवक को पाकिस्तान में इस्लाम छोड़ यहूदी धर्म अपनाने की मिली इजाजत

नई दिल्ली ( 27 मार्च ): अल्पसंख्यकों को प्रताड़ित करने के लिए पाकिस्तान जाना जाता और इसकी वजह से हमेशा सुर्खियों में रहता है। लेकिन इस बार पाकिस्तान में धर्मातरण का एक अनूठा मामला सामने आया है। पाक अधिकारियों ने 29 साल के एक युवक को इस्लाम छोड़कर यहूदी धर्म स्वीकार करने की इजाजत दी है।


फिशेल बेनखाल्द नामक इस युवक ने राष्ट्रीय पहचान पत्र और पासपोर्ट के लिए आवेदन करते वक्त अपने धर्म के कॉलम में यहूदी लिखने की इजाजत मांगी थी। बिना अनुमति ऐसा करना स्वधर्म त्याग माना जाता जिसके लिए मौत की सजा का प्रावधान है।


अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार पाकिस्तान के गृह मंत्रालय ने हाल ही में फिशेल के उस आग्रह को स्वीकृति प्रदान की जिसमें उसने यहूदी धर्म का उल्लेख करने को लेकर इजाजत मांगी थी। नेशनल डेटाबेस और पंजीयन प्राधिकरण (एनएडीआरए) में उसका नाम फैसल और धर्म इस्लाम लिखा था।


फिशेल मुस्लिम पिता और यहूदी मां के घर 1987 में कराची में पैदा हुए थे। पिता के धर्म की वजह से उनका धर्म भी दस्तावेजों में इस्लाम लिखा गया। लेकिन, उन्होंने बीते साल एनएडीआरए को आवेदन देते हुए कहा था कि वह अपनी इच्छा से यहूदी बनना चाहता है। एनएडीआरए ने इसके बाद गृह मंत्रालय से राय मांगी थी।


सूत्रों के अनुसार मंत्रालय ने कहा है कि आवेदक को अपनी इच्छा से धर्म चुनने की इजाजत देनी चाहिए। आमतौर पर एनएडीआए इस तरह के आग्रह को ठुकरा देता है।