यहां मुस्लिम महिलाओं ने की भगवान श्रीराम की आरती

वाराणसी (15 अप्रैल): भले ही हमारे देश में कुछ लोग मजहब के नाम पर देशवासियों को बांटने का काम करने में लगे रहते हैं, लेकिन राम नवमी के मौके पर पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी में सांप्रदायिक सौहार्द की अनोखी बानगी देखने को मिली। यहां हुकुलगंज इलाके में मुस्लिम महिलाओं ने एक कार्यक्रम के दौरान भगवान राम की आरती की।

इतना ही नहीं इन महिलाओं ने भगवन श्रीराम के जन्मोत्सव के मौके पर सोहर भी गाया। साथ ही मुस्लिम बहनों ने उर्दु में लिखित श्रीराम आरती का गायन भी किया। वहीं मुस्लिम महिला नाजनीन अंसारी ने इस मौके पर कहा कि धर्म और जात सबके अलग हो सकते हैं, लेकिन प्रभु श्रीराम हमारे पूर्वज हैं और उनकी पूजा करना समाज को यह संदेश देना है कि आने वाला समय रामराज्य ही होगा। जिस तरह राम धर्म की रक्षा के लिए वनवास चले गए थें उसी तरह हर किसी को देश की रक्षा के लिए त्याग करना चाहिए।

यह पहला मौका नहीं है जब रामनवमी के पर्व पर विशाल भारत संस्थान की मुस्लिम महिलाओं ने भगवान श्रीराम की आरती की हो। पिछले साल भी इन मुस्लिम महिलाओं ने कर सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल पेश की। जहां एक ओर देश में भारत माता की जय बोलने पर कुछ लोग के भड़काऊ भाषण सामने आ रहे हैं, ऐसे में इन मुस्लिम महिलाओं ने देश के सामने कम्युनल हार्मोनी की एक अनोखी मिसाल पेश की है।