इस संस्था ने 'भारत माता की जय' नारे को बताया 'गैर-इस्लामी', जारी किया फतवा

नई दिल्ली (20 मार्च): 'भारत माता की जय' नारे को बोलने या ना बोलने के मुद्दे पर छिड़ी बहस और उसके बाद उठा विवाद अभी भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब हैदराबाद के एक इस्लामिक धार्मिक सेमिनरी, जामिया निजामिया ने फतवा जारी कर इसे इस्लामिक आस्था के खिलाफ बताया है।

'गल्फ न्यूज़ इंडिया' की रिपोर्ट के मुताबिक, शनिवार को फतवे में कहा गया, कि यह नारा "गैर-इस्लामी और अतार्किक" है। इसमें कहा गया कि यह एक व्यक्ति का विश्वास है कि वह भारत के साथ एक माता की तरह माने। लेकिन यह नजरिया दूसरों पर नहीं थोपा जा सकता।

यह टिप्पणी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन के नेता असदुद्दीन ओवैसी के विवादित बयान के बाद आई है। जिसमें उन्होंने कहा कि वह 'भारत माता की जय' नहीं बोलेंगे। इस बयान के बाद राजनीति गर्म हो गई है।