शरिया मानने वालों के लिए तीन तलाक अब भी मान्य: जमीयत उलेमा-ए-हिंद

नई दिल्ली (25 अगस्त): जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी ने कहा है कि तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला शरीयत के खिलाफ है और शरिया कानून को मानने वालों के लिए यह अब भी मान्य है। बतौर मदनी, यह मुस्लिम समुदाय के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि यह फैसला अपना धर्म मानने के मौलिक अधिकार पर हमला है।