WATCH: यह मुस्लिम युवक है सबसे बड़ा गौरक्षक

अभिताभ ओझा, पटना (8 अप्रैल): इन दिनों पूरे देश में गौरक्षा के नाम पर हंगामा मचा है। राजस्थान के अलवर में एक मुस्लिम को गौ रक्षको ने पीट-पीटकर मार डाला। लेकिन इन सबके बीच आज आपको दिखाते है एक ऐसे शख्स की कहानी जो मुस्लिम होते हुए भी एक बड़ा गौ सेवक है। सड़क पर घूम रही बीमार गायों का वो इलाज करवाता है, उन्हें पालता है और उनकी अच्छी सेवा करता है।


अख्तर ईमाम के दिन की शुरुआत गाय की देखरेख के साथ शुरू होती है। गाय और उसकी बछिया की देखभाल करने में अख्तर को सुकून मिलता है। अख्तर अपनी गाय को बहुत प्यार करते हैं और इसका नाम उन्होंने हीर रखा है। हीर को वो अपने परिवार के सदस्य की तरह मानते हैं।


अख्तर खुद गाय का दूध निकालते है और उसको नहलाते है। अच्छा चारा देती हैं, बढ़िया से देखभाल करते हैं। देश में फिलहाल गौरक्षा के नाम पर जो हो रहा है, उससे अख्तर काफी दुखी है। उनकी मानें तो गाय के नाम पर सिर्फ राजनीति हो रही है, गाय की सेवा या देखभाल नहीं। हर मजहब में बेजुबान जानवरों की सेवा करना बताया गया है।


अख्तर के पास कई गायें है, कई दूसरे जानवर है। हाथी और ऊंट भी अख्तर ने पाल रखे हैं। यहां ज्यादातर वैसे जानवर है, जिन्हें बीमारी के बाद उनके मालिकों ने आवारा छोड़ दिया था। लेकिन इन जानवरों को अपने घर लाकर इनकी सेवा की और उन्हें परिवार का एक सदस्य माना। अख्तर ईमाम पशुप्रेमी के तौर पर मशहूर हैं। आज जब गाय के नाम पर बेगुनाह लोगों को मारा जा रहा है। उनकी जान तक ले ली जा रही है, ऐसे में अख्तर ईमाम जैसे लोगों की कहानी गौरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी करने वालों को बुद्धि दे सकती है।


वीडियो: