ये है जय-वीरू की नई हिट जोड़ी...

नई दिल्ली (9 फरवरी): विराट की टीम में दो बल्लेबाज ऐसे हैं जो किसी खामोश योद्धा की तरह सिर्फ लड़ते हैं। ना तो कोई दिखावा और ना ही कोई प्रेशर। जी हां, हम बात कर रहे हैं ओपनर मुरली विजय और नंबर 3 पर खेलने वाले चेतेश्वर पुजारा की। दोनों की नई जोड़ी हर मैच में कुछ ना कुछ रिकॉर्ड अपने नाम कर रही है।

इंग्लैंड के खिलाफ 5 मैचों की सीरीज में दो शतक लगाने वाले मुरली विजय ने 2017 की शुरुआत भी शानदार की है। मुरली विजय विराट की टीम में एक खामोश योद्धा की तरह लड़ते हैं। आज भी विराट के इस खामोश योद्धा ने यही करके दिखाया। केएल राहुल के सस्ते में आउट होने के बाद मुरली विजय ने अपने सबसे भरोसेमंद पार्टनर चेतेश्वप पुजारा के साथ एक बार फिर अपने अंदाज में मोर्चा संभाला। टीम इंडिया के पहला झटका सिर्फ 2 रन पर लगा था जब केएल राहुल तस्कीन अहमद की गेंद पर बोल्ड हो गए।

मुरली विजय ने 160 गेंदों पर 108 रनों की पारी खेली। 12 चौके के साथ एक छक्का लगाया। मुरली विजय और चेतेश्वर पुजारा के बीच 178 रनों की लंबी साझेदारी हुई। चेतन चौहान और सुनील गावस्कर के बाद किसी एक घरेलू सीजन में सबसे ज्यादा रनों की साझेदारी का रिकॉर्ड अब पुजारा और मुरली विजय के नाम हो गया है।

इससे पहले ये रिकॉर्ड द्रविड़ और सचिन के नाम था। चेतन चौहान और गावस्कर ने 1979-80 में 18 मैच से 913 रन बनाए थे जबकि पुजारा और मुरली विजय ने 2016-17 में 9 मैच से 852 रन अपने नाम कर लिए हैं। 2000-01 में सचिन और द्रविड़ ने 6 मैच से 806 रन साथ बनाए थे।

साफ है कि मुरली विजय टीम इंडिया के लिए एक शानदार ओपनर साबित हो रहे हैं। ओपनिंग में भले ही मुरली विजय के जोड़ीदार बदलते रहे लेकिन इनका गेम बिल्कुल नहीं बदला। गावस्कर और सहवाग के बाद मुरली विजय ने बतौर ओपनर 9वां शतक लगा कर नया रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। हालांकि आज उनके पार्टनर चेतेश्वर पुजारा शतक लगाने से चुक गए। पुजारा ने 177 गेंदों पर 83 रनों की पारी खेली।