मुंबई नाबालिग लड़कियों के लिए अनसेफ, 7 महीने में 243 से यौन उत्पीड़न, 656 लापता

इंद्रजीत सिंह, नई दिल्ली (16 अगस्त): क्या देश की आर्थिक राजधानी मुम्बई में नाबालिग लड़कियां सुरक्षित नहीं हैं, सवाल इसलिए है क्योंकि पिछले सात महीने में मुम्बई में 243 नाबालिग बच्चियों के यौन उत्पीड़न के मामले सामने आए हैं और इससे भी ज्यादा चौंकाने वाली बात है कि सात महीने में ही 656 नाबालिग लड़कियां गुम हुई हैं।    घाटकोपर अमृतनगर के इलाके में 13 अगस्त को एक ऐसी शर्मनाक घटना घटी कि लोगों का गुस्सा फुट पड़ा। एक 22 साल का युवक दो साल की बच्ची को पहाड़ी पर ले गया और उसके साथ रेप किया। लेकिन बच्ची को ढूंढ़ रहे परिवार वाले लड़की तक पहुंच गए और उसकी जान बच गई। अभी लड़की इलाज राजावाड़ी अस्पताल में चल रहा है, इसी दौरान लोगों ने आरोपी को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया और वो अभी पुलिस कस्टडी में है।    यह अकेला मामला नहीं है, मुम्बई में पिछले सात महीने में 243 नाबालिग बच्चीयों के यौन उत्पीड़न के मामले सामने आये हैं, जिसमें पुलिस ने 221 मामले में कार्रवाई की है।    - 13 अगस्त 2016  घाटकोपर अमृतनगर में नाबालिग लड़की से रेप  - 8 मार्च 2016 पवई से गायब हुई नाबालिग बच्ची का कुछ दिन बाद शव मिला  - जाँच में अमानवीय कृत्य यानी रेप की पुष्टि  - मई 2016 नाबालिग लड़की का अपहरण और रेप  - ये कुछ ऐसे मामले हैं जो सुर्खियां बने हकीकत में चित्र और भयावह है।