मुंबई में बनेगा दुनिया का पहला 'स्लम म्यूजियम'

नई दिल्ली (5 जनवरी): देश के सबसे ज्यादा भीड़ भरे मेट्रो शहरों में से एक मुंबई अपने झुग्गियों वाले इलाके के लिए भी दुनिया भर में जाना जाता है। अकेडमी अवॉर्ड विजेता फिल्म 'स्लमडॉग मिलेनियर' से दुनिया भर में मशहूर हुए इसी स्लम में अब दुनिया का पहला 'स्लम म्यूजियम' बनाया जाएगा। आयोजकों ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी।

'लाइव मिंट' की रिपोर्ट के मुताबिक, इस म्यूजियम में एशिया के सबसे बड़े स्लम धारावी में बनने वाली तमाम चीजों की प्रदर्शिनी लगाई जाएगी। साल 2008 में आई डैनी बॉयल की हिट फिल्म 'स्लमडॉग मिलेनियर' का सेट यहीं लगाया गया था।

इस नई पहल के पीछे स्पेन के एक आर्टिस्ट जॉर्ज रुबियो का हाथ है। उन्होंने बताया, ''यह स्लम में बनाया गया सबसे पहला म्यूजियम होगा। एक छोटा मोबाइल म्यूजियम फरवरी में दो महीनों के लिए शुरू किया जाएगा। इसमें मिट्टी के सामान, टेक्सटाइल्स और रिसाइकिल्ड आइटम्स की प्रदर्शिनी लगाई जाएगी।'' 'डिजाइन म्यूजियम धारावी' के आयोजकों ने बताया कि वे स्लम को लेकर लोगों की धारणाओं को चुनौती देना चाहते हैं। वे इनमें रहने वाले लोगों के रचनात्मक टैलेंट को प्रकाशित करना चाहते हैं।

इन पतली गलियों वाले स्लम में करीब 10 लाख लोग रहते हैं। जो इसे धारावी बनाते हैं। इनमें से काफी लोग इलाके की मिनी-फैक्ट्रियों में काम करते हैं। जो कि हर किस्म का सामान बनाते हैं। 'स्लमडॉग मिलेनियर' की सफलता के बाद यह स्लम यात्रियों के लिए एक आकर्षण का केंद्र बन गया है। टूरिस्ट गाइड्स इनकी सैकड़ों वर्कशॉप्स पर घुमाने के ऑफर देते हैं। साल 2010 में ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स ने धारावी को सस्टेनेबल लिविंग के लिए एक रोल मॉडल बताया। उन्होंने धारावी की रिसाइक्लिंग वेस्ट की आदत की तारीफ भी की।