मुंबई में मौत का ब्रिज, कौन है इस हादसे का जिम्मेदार?


न्यूज 24 ब्यूरो नई दिल्ली, (14 मार्च) : महाराष्ट्र की राजधानी मुम्बई के पास सीएसटी स्टेशन के सामने का एक फुटओवर ब्रिज गिरने से बड़ा हादसा हो गया है। इस हादसे में 5 लोगों की मौत हो गई है जबकि 36 लोगों के घायल होने की खबर है। हादसे के बाद फायर ब्रिगेड मौके पर मौजूद है। घटना शाम 7.30 बजे की है। हादसे पर सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मुआवजे का ऐलान किया है। मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए का मुआवजा और घायलों को 50 हजार रुपये के मुआवजे का सीएम ने ऐलान किया है। इसके अलावा सीएम ने इस हादसे की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दे दिए हैं। सीएम ने इस घटना को गंभीर बताते हुए सख्ती से कार्रवाई करने का भरोसा दिया है।

हादसे के बाद जब रेलवे विभाग से पूछा गया तो जवाब में उन्होंने आरोप प्रत्यारोप का खेल शुरू कर दिया था। हादसे पर रेलवे का जवाब था कि ये ओवरब्रिज बीएमसी का था, हम पीड़ितों के लिए अपना सहयोग कर रहे हैं। रेलवे के डॉक्टर और कर्मी राहत और बचाव कार्यों में बीएमसी के साथ सहयोग कर रहे हैं। जिम्मेदारी को लेकर बीएमसी और रेलवे में झगड़ा भी हुआ और आखिर में मुख्यमंत्री ने सामने आकर कहा- कि घटना की उच्चस्तरीय जांच की जाएगी। रेलवे और बीएमसी के इस बयान के बाद हमें बिल्कुल भी हैरानी नहीं हुई क्योंकि इन हादसों के बाद पल्ला झाड़ने का सिलसिला शुरू हो जाता है। साल बदल जाता है हादसे की जगह बदल जाती है पर नहीं बदला तो बीएमसी और रेलवे का रवैया।

सेंट्रल रेलवे के डीआरएम डीके शर्मा के अनुसार, जिस ब्रिज के गिरने से यह हादसा हुआ उसकी देखरेख का काम बीएमसी करती है। उन्होंने बताया कि ब्रिज का निर्माण कार्य रेलवे ने कराया था, लेकिन रखरखाव की जिम्मेदारी बीएमसी की ही थी। वहीं मंत्री विनोद तावड़े ने कहा, 'ब्रिज का एक स्लैब गिरा है। रेलवे और बीएमसी इसकी मेंटनेंस के बारे में जांच करेंगे। ब्रिज खराब कंडीशन में नहीं था, इसमें छोटी-मोटी रिपेयरिंग की जरूरत थी, जोकि जारी थी। काम पूरा नहीं हुआ फिर भी इसे चालू रखा गया था, इसके बारे में भी जांच की जाएगी।'