विज्ञापन देकर ऐसे करता था कालेधन को सफेद

दीपक दुबे: मुंबई ( 29 दिसंबर ): पीएम नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की आधी रात से 500 और 1000 के नोटों पर बैन लगा दिया था जिसके बाद से आम जनता परेशान है। लोग एटीएम और बैंकों की लाइन में खडा़ होकर परेशना हो चुके हैं। लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं जो नोटबंदी के बाद मलाई खा रहे हैं। कुछ ने यह कोशिश की कि बंद हुए नोटों को बदल कर करोड़ों की कमाई की जाए।

आर्थिक राजधानी मुंबई में भी एक ऐसा ही अनोखा मामला सामने आया है। मुंबई में एक शख्स ने बंद हुए नोटों को बदलने का विज्ञापन दिया है। इसने विज्ञापन में लिखवा रखा है कि अगर किसी को 500 और 1000 की नोट बदलवानी है तो मुझसे संपर्क करें।  

आप भी सुनकर चौंक गए होंगे कि आखिर इस शख्स में इतनी हिम्मत कैसे आ गई जो सरकार और जांच एजेंसियों से बिना डरे बंद हुए नोटों को बदलने का विज्ञापन दे रहा है। इस शख्स ने महाराष्ट्र के एक प्रसिद्ध मराठी पेपर में यह विज्ञापन दिया है।  

मुंबई की अम्बोली पुलिस ने 44 साल के सरफराज बादशाह मुलुनी उर्फ़ दानिश मेमन को महाराष्ट्र के कोल्हापुर से गिरफ्तार किया है मुंबई पुलिस ने इस शख्स को सेक्शन 420 और सेक्शन 511 के तहत गिरफ्तार किया है।

मुंबई पुलिस के पास एक सामाजिक कार्यकर्त्ता ने यह शिकायत की कि एक शख्स पिछले तीन दिनों से मराठी अखबार में विज्ञापन दे रहा है कि वो 500 और 1000 हजार के नोट, बहुत कम कमीशन पर बदल देगा और साथ ही आपके घर पर लाकर पैसे दे जाएगा।  इसके बाद पुलिस हरकत में आयी। यह विज्ञापन 14 दिसम्बर से 16 दिसम्बर के बीच दिया गया था, इस आरोपी ने एक दिन के विज्ञापन के लिए 790 रूपये भी दिए थे, लेकिन यह शातिर आरोपी खुद के ही जाल में फंस गया। 

पुलिस ने विज्ञापन को जब देखा तो विज्ञापन में इसका मोबाइल नंबर था। उसी के आधार पर पुलिस फर्जी ग्राहक बनकर इस तक पहुंची और इसे धर दबोचा।  

अब मुंबई पुलिस इस शख्स से पूछताछ कर रही है आखिर इसने कितने लोगो की ब्लैक मनी को व्हाइट किया है। साथ ही पुलिस यह भी जानना चाहती है आखिर कितने लोगों ने इससे संपर्क किया।