मुंबई: 1993 सीरियल ब्लास्ट के दोषी ताहिर टकला की दिल का दौरा पड़ने से मौत

नई दिल्ली (18 अप्रैल): 1993 में हुए मुंबई बम धमाकों का दोषी एम ताहिर मर्चेंट ऊर्फ ताहिर टकला की बुधवार को दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। मुंबई बम धमाकों में मर्चेंट को कोर्ट ने दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई थी।अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (जेल) बी. के. उपाध्याय ने कहा, 'यहां के यरवदा सेंट्रल जेल में बंद मर्चेट को तड़के करीब तीन बजे दिल का दौरा पड़ा और उसे सासून अस्पताल ले जाया गया।'

उन्होंने कहा, 'उस पर इलाज का कुछ असर नहीं हुआ और तड़के करीब 3.45 बजे उसकी मौत हो गई। मर्चेट को 7 सितंबर 2017 को मुंबई मे मार्च 1993 में हुए सिलसिलेवार बम धमाके की साजिश रचने, इसमें मदद करने और जानबूझकर आतंकवादी गतिविधियां शुरू करने के मामले में मौत की सजा सुनाई गई थी।

आपको बता दें कि ताहिर 1993 मुंबई सीरियल बम ब्लास्ट की योजना बनाने और बम प्‍लांट करने में दोषी पाया गया था। उसे 2007 में गिरफ्तार किया गया था। उसके खिलाफ धमाकों के लिए पैसा जुटाने और कई आरोपियों को ट्रेनिंग के लिए पाकिस्तान भिजवाने का भी आरोप था। 7 सितंबर 2017 को विशेष टाडा अदालत ने ताहिर मर्चेंट सहित पांच दोषियों को फांसी की सजा सुनाई थी।