रैकेट मामले में बड़ा खुलासा, हीरानंदानी अस्पताल के सीईओ समेत 5 गिरफ्तार

नई दिल्ली (10 अगस्त): मुंबई में किडनी रैकेट मामले में रोजाना एक से बढ़कर एक खुलासे हो रहे हैं। आए दिन आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ चुके हैं। इस बार मुंबई पुलिस ने हीरानंदानी अस्पताल के सीईओ समेत पांच डॉक्टरों को गिरफ्तार किया है। इनपर किडनी रैकेट में शामिल होने का आरोप है। सभी को आज कोर्ट में पेश किया जाएगा। पांच डॉक्टरों की गिरफ्तारी के बाद अब तक इस मामले में कुल 13 आरोपी पकड़े जा चुके हैं।

मुंबई गुर्दा गैंग के बारे में रोज़-ब-रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं। दिन ब दिन किडनी के काले कारोबारी पुलिस के हत्थे चढ़ रहे हैं। इस बार हीरानंददानी किडनी मामले में बड़ी गिरफ्तारी हुई है। मुंबई पुलिस ने हीरानंदानी अस्पताल के सीईओ समेत 5 डॉक्टरों को गिरफ्तार किया है। इन सभी पर किडनी रैकेट से जुड़े होने के आरोप हैं। पांच डॉक्टरों की गिरफ्तारी के साथ ही अब तक इस मामले में 13 आरोपी शिकंजे में पहुंच चुके हैं।

इसी साल जुलाई महीने में आपके अपने चैनल न्यूज़ 24 ने मुंबई के गुर्दा गैंग पर बड़ा खुलासा किया था। ऑपरेशन गुर्दा गैंग में हमने दिखाया था कि मुंबई के बड़े अस्पताल में किस तरह से किडनी का काला कारोबार चल रहा था। 1 किडनी की कीमत लगभग 50 लाख में तय होती थी , या फिर किडनी खरीदने वालों की हैसियत पर और दलाल गरीबों , भिखारियों से 10 लाख में किडनी बेचने का सौदा करते थे , सौदा तय हो जाने पर किडनी ट्रांसप्लांट का अवैध दस्तावेज तैयार किया जाता था , किसी को भाई बनाकर तो किसी को रिश्तेदार बताकर अवैध ऑपरेशन किया जाता था।

हमने किडनी रैकेट के एक गवाह को भी दुनिया के सामने लाया था। ये शख्स खुद गुर्दा गैंग का शिकार हुआ था। युवक ने खुलासा किया था कि MAP GFX IN बड़े अस्पतालों में दलालों की मिलीभगत से ये गंदा धंधा सिर्फ मुंबई में ही नहीं बल्कि गुजरात, चेन्नई, और मध्य प्रदेश MAP GFX OUT जैसे बड़े शहरों में भी चल रहा है। 

न्यूज़ 24 के इस खुलासे का बड़ा असर हुआ था। महाराष्ट्र विधानसभा में किडनी रैकेट का मुद्दा उठा था। कड़े कानून बनाने की मांग की गई थी। तभी से पुलिस किडनी रैकेट से जुड़े आरोपियों को एक-एक कर दबोच रही है। इस मामले में अब तक 13 आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं। इनमें रैकेट का सरगना ब्रिजेंद्र बिसेन भी शामिल है। लेकिन अभी भी कई नकाबपोश ऐसे हैं, जो कानून के शिकंजे से बाहर हैं। उम्मीद है कि दूसरे गुनहगार भी जल्द ही सलाखों के पीछे होंगे।