मुलायम हुए सख्त, कल सुबह 10.30 बजे पार्टी उम्मीदवारों की बुलाई बैठक

लखनऊ  (30 दिसंबर): समाजावादी पार्टी में आजतक का सबसे बड़ा महाभारत जारी है। पार्टी की स्थापना के बाद से ये पहला मौका है जब मुलायम सिंह को इतना बडा़ फैसला लेना पड़ा है। पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने शुक्रवार शाम एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव और पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव को छह साल के लिए समाजवादी पार्टी से निष्‍कासित कर दिया। उन्‍होंने कहा कि रामगोपाल ने पार्टी को बहुत नुकसान पहुंचाया है। मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव नहीं समझ रहे। रामगोपाल उनका भविष्‍य बर्बाद कर रहे हैं।

टिकट बंटवारे को लेकर हुई विवाद के बीच मुलायम सिंह का ये फैसला चौकाने वाला है। वहीं निष्कासन के बाद अखिलेश यादव और उनके समर्थकों के तेवर और तल्ख हो गए हैं। अखिलेश यादव के समर्थकों ने ऐलान कर दिया है कि मुख्यमंत्री अपने पद से इस्तीफा नहीं देगें। उनका दावा है कि अखिलेश यादव को 205 विधायकों का समर्थन हांसिल है। इस सिलसिले में कल सुबह 9 बजे अखिलेश यादव ने पार्टी के तमाम विधायकों की बैठक बुलाई है।

वहीं सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक 19 में 12 समाजवादी पार्टी के राज्यसभा के सांसदों ने अखिलेश यादव को समर्थन देने का फैसला किया है।

उधर पूरे घटनाक्रम पर मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव की भी कड़ी नजर है। मुलायम सिंह यादव ने कल सुबह पार्टी के तमाम उम्मीदवारों की कल सुबह 10.30 बजे बैठक बुलाई है। बताया जा रहा है कि इस बैठक में मुलायम सिंह आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे और ये जानने की कोशिश करेंगे की कौन उम्मीदवार उनकी तरफ है और कौन सीएम अखिलेश के खेमे में है।