पेशन हड़पने के लिए भाई ने बहन को रखा दो साल ताले में बंद!

 

नई दिल्ली ( 8 फरवरी) :  मध्य प्रदेश के हरदा में एक महिला को पुलिस ने मुक्त कराया है। आरोप है कि इस महिला को उसके ही भाई और भाभी ने दो साल से ताले में बंद रखा हुआ था। इस दंपती पुलिस ने दो दिन पहले हिरासत में लिया। दंपती ने महिला के मानसिक रूप से अस्थिर होने का दावा किया।

'हिंदुस्तान टाइम्स' की रिपोर्ट के मुताबिक सुरेश और रानी नाम के दंपती ने 45 वर्षीय संजू बाई को एक गंदे कमरे में बंद कर रखा था। इस कमरे में धूप तक नहीं आती थी। आरोप है कि संजू बाई की पेशन हड़पने के लिए ऐसा किया गया। संजू बाई को उनके पति की मौत के बाद सरकार की ओर से 7000 रुपए महीना पेंशन मिलती है। संजू बाई के पति रेलवे कर्मचारी थे।

दंपती के मुताबिक उन्होंने संजू बाई को इसलिए कैद किया क्योंकि वो उन पर हमले करती थी। हालांकि वो इस बात का कोई जवाब नहीं दे सके कि महिला का इलाज क्यों नहीं कराया गया।

हरदा एडिशनल एसपी किरनलता करकेटा के मुताबिक सुरेश और रानी के धारा 344 के तहत बुक किया गया है। ये धारा 10 या उससे ज़्यादा दिन तक किसी को बंधक बना कर रखने पर लागू की जाती है। जब पुलिस टीम घर पर पहुंची तो देका कि संजू बाई के कमरे का ताला बंद था और उसकी चाबी पडोसी के घर पर थी। जब कमरा खोला गया तो वहां संजू बाई जिस दयनीय हालत में थी उसे देखकर सब दंग रह गई।