तनाव में थे भय्यू जी महाराज, सुसाइड नोट में लिखा, 'मेरी मौत का कोई जिम्मेदार नहीं'

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 12 जून ):  कथावाचक भय्यू जी महाराज ने इंदौर में खुद को गोली मारकर मंगलवार को आत्महत्या कर ली। उनको गोली लगने के बाद इंदौर के बॉम्बे अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन उनकी मौत हो गई। उन्हें कुछ महीने पहले ही मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह सरकार ने राज्यमंत्री का दर्जा प्रदान किया था। लेकिन उन्होंने कार व अन्य सुविधाएं लेने से इनकार कर दिया था।

सूत्रों के मुताबिक उनके पास से बरामद सुसाइड नोट के मुताबिक उनकी मौत के लिए कोई जिम्मेदार नहीं है। उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा कि उनके परिवार में विवाद था, जिसकी वजह से वे अवसादग्रस्त हो गए थे हालांकि पुलिस अभी भी मामले की छानबीन कर रही है।

भय्यू महाराज का जन्म 1968 में हुआ था। उनका असली नाम उदय सिंह देशमुख है। वे शुजालपुर के जमींदार परिवार से आते हैं। 2017 में वे ग्वालियर की डॉ. आयुषी शर्मा के साथ शादी की थी जिसके बाद सुर्खियों में आए थे। उन्होंने एक कपड़े के ब्रांड के लिए मॉडलिंग भी की थी। उनको देशभर में लाखों मानने वाले हैं। उन्हें हाईप्रोफाइल संत भी कहा जाता है। इसके पीछे वजह यह कि उनके देश के दिग्गज राजनेताओं से संपर्क हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, शिवसेना के उद्धव ठाकरे, मनसे के राज ठाकरे, लता मंगेशकर, आशा भोंसले, अनुराधा पौडवाल समेत कई हस्तियां उनके जुड़ी हुई हैं।