किसान आंदोलन: फायरिंग में 5 की मौत, ज्योतिरादित्य ने कहा- काला दिन

नई दिल्ली ( 6 जून ): मध्यप्रदेश में चल रहे किसानों के प्रदर्शन ने मंगलवार को हिंसक रूप ले लिया। मंदसौर में धरने पर बैठे किसानों पर पुलिस ने फायरिंग कर दी। इस फायरिंग में 5 किसानों की मौत हो गई, जबकि 3 किसान गंभीर जख्मी हो गए।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस मामले को लेकर अधिकारियों की आपात बैठक बुलाई है। साथ ही शिवराज ने इस मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। कई इलाकों में किसान आंदोलन के कारण चीजों की कीमतें आसमान छू रही है।

वहीं कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मध्य प्रदेश के इतिहास में आज तक ऐसा कभी नहीं हुआ। हमारे अन्नदाताओं पर गोली चलाना दुखदायी और दिल को दहलाने वाला है। प्रदेश के लिए ये एक काला दिन है।

मंदसौर में किसानों पर पुलिस की फायरिंग के बीच प्रशासन ने इलाके में इंटरनेट सेवाओं पर भी बैन लगा दिया है। मंदसौर, रतलाम और उज्जैन में इंटरनेट सेवा पूरी तरीके से बंद कर दी गई है। साथ ही बल्क मैसेज करने पर भी पाबंदी लगा दी गई है।

राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ ने आंदोलन को और बड़ा रूप देने की चेतावनी दी है। किसान मजदूर संघ ने बुधवार को प्रदेश व्यापी बंद का ऐलान किया है।