मामूली बात पर इंस्पेक्टर ने बुजुर्ग को पीटा

देवेंद्र भामदरे, इंदौर (25 अप्रैल): वर्दी की गुंडागर्दी आपने अक्सर देखी है, लेकिन आज जो हम दिखाने जा रहे हैं उसमें वर्दी के गुंडे ने इंसानियत की सारी हदें पार कर दीं। बीच सड़क वर्दी वाले ने एक बुज़ुर्ग की जमकर पिटाई कर दी। बुज़ुर्ग चीखता रहा, रहम की गुहार लगाता रहा, लेकिन वर्दी के नशे में इंस्पेक्टर उसे पीटता रहा। आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि बुज़ुर्ग की पिटाई इंस्पेक्टर ने मामूली बात पर कर दी।


वर्दी के नशे में चूर इस इंस्पेक्टर का नाम एमपी ओझा है। इंदौर के राजेंद्र नगर इलाके में टीआई एमपी ओझा चेंकिंग कर रहा था। उसी दौरान राधेश्याम सोमानी की भी स्कूटी को पकड़ लिया गया। स्कूटी पकड़ने के दौरान चाभी निकालने को लेकर पुलिसवालों से बहस शुरू हो गई। बहस उस वक्त और बढ़ गई जब राधेश्याम सोमानी ने टीआई ओझा को अपनों को छोडऩे का आरोप लगा दिया। फिर उसके बाद इंस्पेक्टर एमपी ओझा के गुस्से का ठिकाना नहीं रहा। खाकी के नशे में चूर इस बेशर्म इन्सपेक्ट रने बुजुर्ग की उम्र का भी लिहाज भी नहीं किया, लात घूसों से जमकर पिटाई कर दी।


इंस्पेक्टर की सरेआम गुंडागर्दी की तस्वीर जैसे ही सोशल मीडिया पर वायरल हुई, पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। हालांकि पुलिस ने पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। पुलिस अब कार्यवाई की बात कर रही है, लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि बुजुर्ग को बेरहमी से पिटने का अधिकार इंदौर पुलिस के इस इंस्पेक्टर को किसने दिया।