'मोगली गर्ल' को मिली स्पेशल फ्रेंड

लखनऊ(6 अगस्त): जनवरी के महीने में जंगलों से 10 साल की एक बच्ची मिली थी जो अपने हाथ और पैरों दोनों यानी '4 पैरों' से चलती थी। वह जानवरों-सी आवाजें निकालती थी। मोगली गर्ल नाम से फेमस हुई 'एहसास' नाम की यह बच्ची, दो महीने पहले तक जानवरों की तरह ही आवाज़ें निकाल पाती थी, लेकिन उसे नया दोस्त मिल गया है। अब वह कपड़े पहन पाती है, खाना मांगती है और हाथ-पैर हिलाकर अपनी बात कह पाती है। इसका श्रेय जाता है एहसास की खास फ्रेंड पूजा को। 

- पूजा 16 साल की एक लड़की है, जो मानसिक रूप से विक्षिप्त है। वह खुद बहुत मुश्किल से खुद को व्यक्त कर पाती है लेकिन, एहसास के मेंटर के किरदार में है। 

- वह एहसास की दोस्त है और उसे भावनात्मक सपॉर्ट देने का काम करती है। दोनों ठीक से बोल नहीं पाते और ना ही शब्दों को समझ पाते हैं, लेकिन पिछले 3 महीनों से दोनों दोस्त हैं। दोनों एक-दूसरे का खयाल रखते हैं और हमेशा एक-दूसरे के लिए मौजूद रहते हैं। 

- डॉक्टर सुरेश धपोला ने बताया, 'पूजा सुबह एहसास को उठाने और फ्रेश करा कपड़े पहनाने और उसके साथ बैठकर खाने तक उसके साथ रहती है। पूजा विक्षिप्त है लेकिन दोनों के बीच की समझ काफी अच्छी है, दोनों एक-दूसरे को समझते हैं और एक-दूसरे का साथ देते हैं।'

- पूजा और एहसास दिन की शुरुआत एक साथ करते हैं। पूजा यह सुनिश्चित करती है कि एहसास का पूरा खयाल रखे। जब भी एहसास को किसी चीज की जरूरत होती है वह पूजा के पास जाती है, पूजा समझ जाती है कि आखिर एहसास को क्या चाहिए। डॉक्टर धपोला ने बताया, 'एहसास हावभाव से अपनी बात पूजा को समझाती है। जैसे, जब उसे पानी पीना होता है तो वह ग्लास की ओर इशारा करती है।'

- स्वास्थ्य में थोड़ा सुधार होने के बाद से एहसास को दिनचर्या से जुड़ी बातों की ट्रेनिंग दी जा रही है। उसे सिखाया जा रहा है कि कैसे खाया जाता है, कपड़े कैसे तह किए जाते हैं, नहाना-दांत साफ करना, आदि की ट्रेनिंग दी जा रही है। जो लोग एहसास का खयाल रखते हैं या उसे ट्रेनिंग दे रहे हैं, उनका कहना है कि पूजा के समझाने पर कोई भी बात वह जल्दी समझ जाती है।