फिल्म 'इंदु सरकार' का विरोध, भंडाकर को रद्द करनी पड़ी प्रेस कॉन्फ्रेंस


पुणे (15 जुलाई): मधुर भंडारकर की बहुप्रतिक्षित फिल्म 'इंदु सरकार' पर रिलिज से पहले ही सियासी घमासान तेज हो गया है। बताया जा रहा है कि मधुर भंडारकर ने ये पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पर बनाई है। मुंबई कांग्रेस ने रिलिज से पहले फिल्म दिखाने की मांग की है। कांग्रेस की इस मांग को मधुर भंडाकर ने खारिज कर दिया। इसके बाद से कांग्रेस लगातार फिल्म का विरोध कर रही है। इसी विरोध की वजह से आज पुणे में फिल्म के प्रमोशन के तहत मधुर भंडाकर और उनकी टीम प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं कर पाई।


आपको बता दें कि मुंबई कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष संजय निरुपम ने भंडारकर की फिल्म 'इंदु सरकार' का विरोध करते हुए मांग की थी कि सेंसर बोर्ड के पास भेजे जाने से पहले यह फिल्म उन्हें दिखाई जाए। इस मुद्दे पर भंडारकर ने कहा, 'मुझ पर सब तरफ से हमला किया जा रहा है। कोई इस फिल्म को देखना चाहता है और एक पॉलिटिकल पार्टी इसके 2-3 मिनट के ट्रेलर के ही पीछे पड़ गई है। उन्हें पहले पूरी फिल्म देखनी चाहिए उसके बाद फैसला लेना चाहिए।'


वहीं मधुर भंडारकर ने कहा है कि वह न तो अपनी अगली फिल्म 'इंदु सरकार' किसी को दिखाएंगे और न ही इसमें कोई काट-छांट करेंगे। भंडारकर की यह फिल्म इमर्जेंसी के दौर पर आधारित है और इसमें नील नितिन मुकेश, कीर्ति कुल्हाड़ी और अनुपम खेर मुख्य भूमिकाओं में हैं। उन्होंने कहा कि वह आरएसएस, कम्युनिस्ट जैसे शब्द नहीं हटाएंगे क्योंकि इन्हें तो सामान्य तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता है। भंडारकर ने कहा, 'हम इन शब्दों को रोजाना इस्तेमाल करते हैं और फिल्म में किसी भी तरह की आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल नहीं किया गया है। इस फिल्म के लिए मैंने काफी रिसर्च किया है तो आखिर उसे मैं फिल्म में इस्तेमाल क्यों नहीं कर सकता?'