ये हैं 5G का बाप, सिर्फ 1 सेकेंड में डाउनलोड होगी मूवी

नई दिल्ली (8 फरवरी): भारत में अभी 4जी मोबाइल नेटवर्क्स पूरे देश में नहीं है, लेकिन वैज्ञानिकों ने ऐसा सिस्टम तैयार किया है जो 5G से 10 गुना ज्यादा तेजी से डेटा ट्रांसमिट कर सकता है। इससे न सिर्फ डाउनलोड स्पीड बढ़ेगी बल्कि इन-फ्लाइट नेटवर्क कनेक्शंस की स्पीड भी बढ़ेगी।

हिरोशिमा यूनिवर्सिटी के मी नोर फुजिशिमा ने कहा अभी तक हम वायरलेस डेटा के बारे में मेगाबिट्स प्रति सेकंड या गीगाबिट्स प्रति सेकंड में ही बात करते हैं, मगर जल्द ही टेराबिट्स प्रति सेकंड की स्पीड इस्तेमाल की जा सकेगी।

जापान में तैयार हो रही नई टेक्नोलॉजी...

- जापान की हिरोशिमा यूनिवर्सिटी और नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ इन्फर्मेशन ऐंड कम्यूनिकेशंस टेक्नॉलजी ने टेराहर्ट्स (THz) ट्रांसमिटर बनाने की जानकारी है।

- यह सिंगल चैनल पर 300 गीगाहर्ट्स बैंड को इस्तेमाल करते हुए एक सेकेंड में 100 गीगाबिट्स के रेट पर डिजिटल डेटा ट्रांसमिट करता है।

- पिछले साल ग्रुप ने बताया था कि 300 GHz पर एक वायरलेस लिंक की स्पीड को QAM (quadrature amplitude modulation) की मदद से बड़े पैमाने पर बढ़ाया जा सकता है।

- इस साल उन्होंने प्रति चैनल 6 गुना ज्यादा डेटा रेट करके दिखाया है।

- यह पहली बार हुआ है जब IC आधारित ट्रांसमिटर से 100 गीगाबिट्स प्रति सेकंड की रफ्तार पर डेटा एक्सचेंज किया जा सकता है।

अब आएगा THz बैंड

- THz बैंड नया है और भविष्य में अल्ट्राहाई-स्पीड वायरलेस कम्यूनिकेशंस में इस्तेमाल होगा।

- रिसर्च ग्रुप का बनाया एक ट्रांसमिटर 290GHz से 315GHz फ्रिक्वेंसी रेंज पर 105 गीगाबिट्स प्रति सेकेंड की स्पीड से ट्रांसमिशन कर सकता है।

वीडियो: जियो को ऐसे बनाए लाइफ टाइम फ्री...