कश्मीर के 'वानी' की जिंदगी को सिल्वर स्क्रीन पर उतार रहे हैं जेपी दत्ता

NAJIR-AHMADVANI

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(21 जुलाई): नजीर अहमद वानी की वीरता और शौर्य को कोई नहीं भूल सकता है, क्योंकि यह वो शख्स है, जिसने आतंकवाद की राह छोड़कर देश की सेना में भर्ती होकर देश सेवा की थी। एक मुठभेड़ में नजीर अहमद वानी आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे। अब उनकी वीरता पर जेपी दत्ता एक बायोपिक लिख रहे हैं।

बता दें कि पिछले साल वॉर फिल्म 'पलटन' रिलीज हुई थी जो 1967 में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई झड़प पर बनी थी। इस फिल्म को डायरेक्टर जेपी दत्ता ने बनाया था। अब वह एक शहीद जवान की बायॉपिक लिख रहे हैं। हालांकि इस बार वह फिल्म का डायरेक्शन नहीं करेंगे बल्कि इसे अपनी बेटी निधि के साथ प्रड्यूस करेंगे।

यह बायॉपिक कश्मीर के पहले अशोक चक्र विजेता शहीद लांस नायक नजीर अहमद वानी पर बनेगी। वानी को इसी साल 26 जनवरी को प्रेजिडेंट राम नाथ कोविंद ने मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया था। पहले सेना मेडल विजेता रहे वानी ने साल 2018 में कश्मीर में आतंकवादरोधी कार्रवाई में आतंकियों से बहादुरी से लड़ते हुए अपने प्राणों की आहुति दे दी थी।

फिल्म में वानी की कहानी के साथ 90 के दशक के कश्मीर की स्थिति और बड़ा घटनाएं दिखाई जाएगी। सूत्रों के मुताबिक, अभी जेपी दत्ता और निधि इस फिल्म के लिए डायरेक्टर और कलाकारों के नाम फाइनल कर रहे हैं। इस फिल्म के जरिए कश्मीर में सेना के जवानों की स्थिति को दिखाया जाएगा।