दुश्मनों को ऐसे हुस्न के जाल में फंसाती हैं मोसाद की हसीनाएं...

नई दिल्ली (9 जुलाई): हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इजरायल पहुंचे थे। ऐसे में दुनिया की सबसे खूंखार एजेंसी मोसाद भी खूब सुर्खियों में हैं। यह एजेंसी इजरायल के दुश्मनों को उनके देश में जाकर मार डालती है या पकड़कर इजरायल भी ले आती है।

गुप्तचरी की दुनिया में हर पल जान का खतरा रहता है, इसलिए इस दुनिया में पुरुषों का वर्चस्व रहा है। हालांकि मोसाद इस मामले में अपवाद है, जहां आधे गुप्तचर महिलाएं हैं। इजरायल की महिला सीक्रेट एजेंटों ने कई रोमांचक कारनामों को अंजाम दिया है।

दुश्मनों को फंसाती हैं हुस्न के जाल में

- साल 2012 में इजरायल की जासूस महिलाएं पहली बार दुनिया के सामने आई थीं। तब उन्होंने हिब्रू भाषा के अखबार लेडी ग्लोब्स को इंटरव्यू दिया था। इसमें उन्होंने अपने काम तथा उसके खबरों, रोमांच और सीमाओं के बारे में बताया था।

- हालांकि तब भी इन जासूसों के पूरे (और असली) नाम तथा चित्र आदि प्रकाशित नहीं किए गए थे। लेकिन उस इंटरव्यू से यह क्लियर हुआ था कि ये खूबसूरत महिलाएं अपने मिशन में किन तरीकों का इस्तेमाल करती हैं।

- महिला जासूसों ने बताया था कि वे किस तरह अपने हुस्न का फायदा भी उठाती हैं और दुश्मनों को फुसलाकर अपने जाल में फंसाती हैं। इस हुनर का सबसे चर्चित मामला 1986 में सामने आया था। तब एक फीमेल सीक्रेट एजेंट ने इजरायल से भाग गए उसके एक पूर्व न्यूक्लियर इंजीनियर को अपने हुस्न के जाल में फंसाया और फुसलाकर इजरायल वापस ले आई थी।