नवाज के भाषण पर भारत का जवाब- हाथ में बंदूक लेकर वार्ता चाहता है पाक

नई दिल्ली(22 सितंबर): संयुक्त राष्ट्र की आम सभा में पाकिस्तान की ओर से पेश किए गए सफेद झूठ का भारत ने करारा जवाब दिय। भारत के विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने कहा कि आतंकी बुरहान वानी को नेता बता कर पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ ने खुद ही आतंकियों के साथ होने का सबूत दिया है।

- भारत ने एक सिरे से PAK पीएम के भाषण को खारिज करते हुए कहा कि पाकिस्तान हाथ में बंदूक लेकर वार्ता चाहता है, लेकिन बंदूक के साथ बातचीत साथ नहीं हो सकती.वार्ता के लिए पहले आतंंकवाद खत्म करे पाक। 

- नवाज शरीफ ने भारत पर बातचीत से पहले अस्वीकार्य शर्तें थोपने का आरोप लगाया और इसके जवाब में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, 'भारत की एक ही शर्त है कि आतंकवाद को खत्म किया जाया. क्या ये स्वीकार्य नहीं है?

- विकास स्वरूप ने कहा, 'नवाज शरीफ ने यूएन की सबसे बड़ी फोरम में हिजबुल आतंकी बुरहान वानी का महिमामंडन किया. इससे पता चलता है कि आतंकवाद से पाकिस्तान का जुड़ाव कम नहीं हुआ है।'

- वहीं विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने कहा कि पाकिस्तान हमेशा से विकास के बदले आतंक को तवज्जो देता रहा है। शांति की दिशा में पाकिस्तान ने एक भी कदम नहीं बढ़ाया है। संयुक्त राष्ट्र आम सभा में पाक की ओर से आतंकी बुरहान वानी की तारीफ हैरान करने वाली बात है क्योंकि बुरहान हिजबुल का आतंकी था, जो कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर एक आतंकी संगठन के तौर पर जाना जाता है.बातचीत में अड़ंगा डालता रहा है पाक। 

- विदेश राज्य मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान को लेकर पीएम मोदी की हमेशा से एक ही नीति रही है. भारत बातचीत के पक्ष में रहा है, लेकिन हम PAK की ब्लैकमेलिंग नहीं सहेंग।  अकबर ने कहा कि आतंकवाद को बढ़ावा देने वाली इस्लामाबाद में बैठी सरकार की चाल भारत समझता है। पाकिस्तान बातचीत में अड़ंगा डालता रहा है। आतंकवाद को खत्म करने पर ही पाक से बातचीत संभव है।