10 लाख से ज्यादा लोगों ने देखी हंगपन दादा पर बनी डॉक्युमेंट्री

नई दिल्ली (30 जनवरी): शहीद हंगपन दादा पर बनी डॉक्युमेंट्री को इंटरनेट पर10 लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं। डॉक्युमेंट्री रिलीज होने के तीन दिनों के भीतर ही इंटरनेट पर हिट हो गई। बता दें कि शहीद होने से पहले हंगपन दादा ने जम्मू-कश्मीर में हुए एनकाउंटर में 3 आतंकवादियों को अकेले मार गिराया था। बता दें कि राष्ट्रीय रायफल्स के शहीद हवलदार हंगपन को रिपब्लिक डे पर मरणोपरांत अशोक चक्र से नवाजा गया।

- हंगपन दादा पर बनी ये डॉक्युमेंट्री फिल्म 12 मिनट की है। इसका नाम वॉरियर्स ऑफ इंडिया है।

- इस डॉक्युमेंट्री को 27 साल के सोमेश साहा ने बनाया है। उनके पिता भी हंगपन दादा की तरह सेना में थे।

- साहा ने कहा, "मेरे पिता आसाम रेजिमेंट में कर्नल थे। वो किसी भी जवान के शहीद होने पर बहुत दुखी होते थे।

- डॉक्युमेंट्री बनाने में सोमेश साहा के साथ सौमिल शेट्टी (27) और रोहन शर्मा (29) थे। दोनों ने कहा कि हम साहा के साथ इस काम में शामिल होने के लिए पूरी तरह तैयार थे।

- साहा ने कहा, "हमने सबसे पहले आर्मी से रिक्वेस्ट की कि हमें हंगपन दादा के साथी जवानों से मिलने दिया जाए।"

- "हमें लगा कि वास्तव में ये कहानी उन लोगों को बतानी चाहिए, जो हंगपन दादा की जिंदगी का हिस्सा रहे हैं।"

- हंगपन दादा की मौजूदगी हर किसी को नई प्रेरणा देती थी। फिर चाहे वो कॉलेज फ्रैंड हों, उनके साथ जवान हों या फिर फैमिली।"

- हंगपन दादा बचपन से ही सभी के हीरो थे। कोई भी चैलेंज हो वो सबसे पहले उसका सामना करते थे। उनकी ईमानदारी हमेशा आस-पास रहने वालों को प्रभावित करती थी।

- मैं अपने साथियों के साथ अरुणाचल प्रदेश स्थित हंगपन दादा के गांव बोदुरिया गया था। हमने कश्मीर से अरुणाचल प्रदेश की यात्रा की। हम कई दिनों तक उन सिपाहियों के साथ रहे, जो हंगपन दादा के साथ लड़े।

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=VDVtInQme2g[/embed]