शनि पूजा विवाद में कूदे मोरारी बापू, महिलाओं को लेकर बोले...

नई दिल्ली (2 फरवरी): महाराष्ट्र के शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं की एंट्री को लेकर गहराए विवाद के बीच गुजरात के महान कथावाचक मोरारी बापू ने बड़ा बयान दिया है। बापू ने मंदिर प्रबंधन की तरफ से दी जा रही दलील को गलत ठहराया है और उस परंपरा को भी गलत ठहराया जिसमें महिलाओं को मंदिर जाने से रोका जाता है। उन्होंने कहा कि जिस घर में महिलाओं की इज्जत होती है वहां देवताओं का वास होता है।

बापू ने शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं की एंट्री की वकालत की है। बापू ने इस बात की तरफ इशारा किया है कि किसी भी व्यक्ति की बेइज्जती नहीं करनी चाहिए और मंदिरों में महिलाओं के प्रवेश पर बैन को बापू महिलाओं का अनादर समझते हैं।

धीरे-धीरे शनि शिंगमापुर मंदिर की इस परंपरा के खिलाफ उदारवादी गुरुओं की जमात उठ रही है। इससे पहले रामदेव बाबा ने भी इस परंपरा की मुखालफत की थी। अब मोरारी बापू इस परंपरा के विरोध के सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए अध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर के शिष्य संतोज जी ने भी कहा है कि शास्त्रों में कहीं भी नहीं लिखा है कि शनि पुजा महिलाएं नही कर सकती है सब अपनी अपनी परंपरा चला रहे हैं।

शनि मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर गहराते विवाद को पाटने के लिए कवायद तेज हो गई है। राज्य सरकार धर्म गरुओं के सहारे इस विवाद को कोर्ट के बाहर हल करने की कोशिश में है। कहा जा रहा है कि श्री श्री रविशंकर शांति दूत बनकर इस विवाद के हल के लिए बातचीत कर सकते हैं।