मुरादाबाद में #PMMODI का बड़ा ऐलान- जनधन में गैरकानूनी ढंग से पैसा डालने वाले जायेंगे जेल, पैसा गरीबों को मिलेगा

नई दिल्ली (3 दिसंबर) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बीजेपी की परि‍वर्तन रैली में यूपी के चुनाव के लिए हुंकार भरी। पीएम ने उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में नोटबंदी को मुद्दा उठाते हुए विपक्षियों पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मैं हैरान हूं, मेरे ही देश में कुछ लोग मुझे गुनाहगार कह रहे हैं।  क्या यह मेरे गुनाह है कि गरीबों के लिए काम कर रहा हूं। गरीबों को हक दिलाना क्या गुनाह है? भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने वाला क्या गुनाहगार है। मोदी कहा कि न मेरा कोई नेताजी है, न हाईकमान है, मेरा जो कुछ है जनता ही है। उन्होंने विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा मैंने सांसद बनने के लिए नहीं, गरीबी से लड़ने के लिए यूपी का चुनाव लड़ा था। नोटबंदी से लोगों को हो रही परेशानी पर बोले कि जिसमें दम होता है वह बैंकों में लाइन लगाकर पैसे निकालता है बेईमान पीछे से। आइए जानते हैं कि मुरादाबाद रैली में क्या बोले पीएम मोदी-

- मैं आपकी तपस्या को बेकार नहीं जाने दूंगा।  - मैं देश को ईमानदारी के रास्ते पर ले जाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ूंगा।  - आपने जो मेहनत की है, घंटों बिना खाए पिए कतार में खड़े रहे हो।  - देश ईमानदारी चाहता है, भ्रष्टाचार से मुक्ति चाहता है। वह असहाय हो गया था। - आम आदमी बेईमानी से तंग आ चुका है। - पहले मनी मनी करते थे अब मोदी मोदी करते थे  - आपने इन पैसों को नहीं उठाया तो मैं कोई रास्ता निकालूंगा।  - उन कतारों को खत्म करने के लिए मैंने आखरी कतार लगाई है।  - चीनी के लिए कतार में खड़ा रहना पड़ता था, करोसिन के लिए कतार में खड़ा रहना पड़ता था।  - बेईमान लोग कतारों में नहीं है, वे डिब्बों में फंसे हैं। - जिसका भी पैसा आपने बैंक में रखा है, उठाइए मत। एक भी पैसा मत उठाइए वो आपके पैर पकड़ेगा।  - जब जनधन अकाउंट खोला था तो गरीबों को भी पता नहीं था कि कैसे काम आएगा।  - गरीब के खाते में पैसा डाला तो गरीब का होगा - कांग्रेस ने 70 साल लोगों को कतार में खड़ा किया। मैंने कतारों को खत्म करने के लिए आखिरी कतार लगाई हैः - बिस्तर के नीचे से मिलने वाले करोड़ों रुपये गरीबों के हैं। - भ्रष्टाचार को डंडा लेकर बाहर करने की जरूरत। - क्या गरीबों का हक दिलाना मेरा गुनाह है। - मैने कहा कि मैं गरीबों के लिए बैंक में खाता खुलवाउंगा तो लोग मेरा मजाक बना रहे थे। - ये लोग मेरा क्या कर लेंगे। हम तो फकीर आदमी हैं झोला लेकर चल पड़ेंगे।  - देश की भलाई के लिए मुझ जैसे फकीर की जरूरत। - हिन्दुस्तान की पाई-पाई पर किसी का अधिकार है तो 121 करोड़ की जनता का है। - फकीरी ने मुझे गरीबों के लिए लड़ने की ताकत दी।  - गरीबों को हक दिलाना क्या गुनाह है? क्या यह मेरे गुनाह है कि गरीबों के लिए काम कर रहा हूं।  मैं हैरान हूं, मेरे ही देश में कुछ लोग मुझे गुनाहगार कह रहे हैं।  भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने वाला क्या गुनाहगार है। न मेरा कोई नेताजी, न हाईकमान, जो कुछ है जनता ही है। आपके लिए काम करने वाली सरकार भाजपा की। अपने लिए, अपनों के लिए काम करने वाली बहुत सरकारें आईं। ये घोषणा करने वाली नहीं, हिसाब देने वाली सरकार है। मेरी सरकार हर गांव तक बिजली पहुंचाने का काम कर रही है। 18 हजार गांव ऐसे हैं जहां बिजली का खंबा नहीं है। यूपी में गरीबों की भलाई करना है, इसलिए मैं यूपी से सांसद हूं। विकास होगा तो रहने को घर मिलेगा, घर में पानी आएगा। विकास होगा तो रोजगार आएगा, बुजुर्गों के लिए दवाई आएगी।  बड़े राज्यों से गरीबी मिटाना जरूरी।