देश के कई हिस्से बाढ़ की मार से बेहाल

नई दिल्ली (25 जुलाई): देश के दूसरे हिस्से भी बाढ़ की मार से बेहाल हैं। राजस्थान, बंगाल, उत्तराखंड राज्य में जल प्रलय से कोहराम मचा है। कई हिस्सों में गांव गायब हो चुके हैं। शहर पानी पर तैर रहे हैं। हाईवे बंद हैं, सड़कें गायब हो चुकी हैं। पानी की तेज धार मानो सबकुछ बहा ले जाने पर आमादा है।

राजस्थान के जालौर में 2 दिन से बिना रुके हो रही बारिश की वजह से यहां पानी ने खेत से लेकर घर तक सबपर अपना कब्जा कर लिया है। अब यहां इंसानों के लिए एक इंच जगह भी नहीं बची है। सड़कों का तो नामोनिशान नहीं है। कहीं भी आने जाने के लिए रास्तों का अंदाजा लगाना पड़ रहा है। तेज धार का सामना करने के लिए भी लोगों को एकदूसरे का हाथ पकड़ कतार बना आगे बढ़ना पड़ रहा है।

वहीं पश्चिम बंगाल के दक्षिणी और पश्चिमी जिलों में जोरदार बारिश के बाद से कई नदियां उफान पर हैं। कोलकाता के अलावा हावड़ा, हुगली, पश्चिमी और पूर्वी मिदनापुर और बीरभूम, पुरलिया और बांकुरा जिलों के अनेक जगहों पर बारिश की जवह से हालात चिंताजनक हो गए हैं। सड़कों पर हर तरफ पानी बह रहा है तो घरों में भी लोग अब पानी की वजह से ऊपर के फ्लोर पर शिफ्ट होने को मजबूर हो गए हैं।

उत्तराखंड के देहरादून में टोंस नदी के बीच में बने टापू पर एक शख्स फंस गया। नदी के बीचो-बीच लहरों में फंसे इस शख्स को बचाने के लिए पुलिस और एनडीआरएफ की टीम को बुलाया गया, जिसके बाद कड़ी मशक्कत के बाद जान पर खेलकर जवानों ने इस शख्स को किसी तरह बचाया। उत्तराखंड में सैलाब से खतरे को लेकर बार-बार अलर्ट जारी होने के बाद भी लोग पुलिस और प्रशासन की चेतावनी पर ध्यान नहीं दे रहे हैं, जिस वजह से इस तरह की घटनाएं सामने आ रही हैं।