बंदर बना संकट मोचक, ऐसे बचायी इतने सारे लोगों की जान

नई दिल्ली (22अप्रैल): बेंगलुरू में एक बंदर ने हनुमान की तरह संकट मोचक बनते हुए तीस लोगों को अनहोनी से बचा लिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बेंगलुरू के श्रीरंगापट्टनम में कावेरी नदी के के किनारे एक पेड़ के नीचे  धार्मिक अनुष्ठान का आयोजन हो रहा था। इस धार्मिक अनुष्ठान में एक ही परिवार के 30 लोग बैठे हुए थे। उस पेड पर एक बंदर भी बैठा था।

बंदर ने अनुष्ठान में बैठे लोगों को परेशान करना शुरू कर दिया। बंदर ने उन लोगों पर यूरीन भी कर दिया। सभी लोग बंदर को भला बुरा कहने लगे और शुद्ध होने के लिए फिर से नदी में स्नान करने वहां से उठ गये। फिर भी तीन लोग उसी  पेड़ के नीचे ही बैठे रहे। लेकिन जैसे ही वो लोग भी वहां से उठे वैसे ही पेड़ भरभरा कर गिर पड़ा। और तीन अन्य लोग उसकी चपेट में आ गये। जिसमें से एक की मौत हो गयी और दो घायल हो गये। अनुष्ठान स्थल पर वापस लौटा परिवार इस घटना से हतप्रभ रह गया। परिवार का कहना है कि उस बंदर ने संकटमोचक बनकर परिवार के सदस्यों की जान बचा ली। अगर वो पेड़ के नीचे ही बैठे रहते तो बड़ी अनहोनी हो सकती थी।