किसान की ज़मीन छोड़ने के बदले साहूकार ने मांगा बहू और बेटी का 'साथ'

मुंबई (4 जुलाई) :  किसान को अन्नदाता कहा जाता है। लेकिन सबको अन्न उपलब्ध करने वाला किसान खुद कैसी बदहाली में जी रहा है, इसका जीता-जागता सबूत है महाराष्ट्र के बीड ज़िले का एक किसान। इस किसान के आरोप के मुताबिक उसकी ज़मीन को छोड़ने के बदले साहूकार ने उसकी बेटी और बहू का 'साथ'  मांगा है। पुलिस ने इस मामले में जांच कराने की बात कही है।

बीड के पुलिस अधीक्षक अनिल पारस्कर का कहना है कि किसान इंद्र मुंडे के दावे पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है और साहूकार के ख़िलाफ़ उचित कदम उठाया जाएगा।

इस मामले में राज्य महिला आयोग की प्रमुख विजया राहत्कर ने भी रिपोर्ट मांगी है। पुलिस के मुताबिक "इस मामले में पुलिस को अप्रैल में शिकायत मिली थी कि साहूकार ने किसान की ज़मीन अपने क़ब्जे में ली है। लेकिन रविवार को ही बीड ज़िले की धारूर तहसील में रहने वाले किसान ने बताया कि साहूकार भगवान बड़े ने ज़मीन को छोड़ने के बदले उसकी बेटी और बहू का साथ मांगा था। इसकी जानकारी हमें ख़बरों के ज़रिए मिली है।"

पुलिस अधीक्षक अनिल पारस्कर के मुताबिक किसान ने अभी तक शिकायत दर्ज़ नहीं करवाई है लेकिन हमने जांच शुरू कर दी है और उसके मुताबिक उचित कदम उठाएंगे।