अजहर ने बताया राहुल का दर्द

दिल्ली(19 दिसंबर): दोहरे शतक से सिर्फ 1 रन से चूकने का दर्द क्या होता पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अजरुद्दीन से ज्यादा कौन जानता होगा। चेन्नई टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ करियर का पहला दोहरा शतक बनाने से लोकेश राहुल सिर्फ 1 रन से चूक गए। राहुल ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए 199 रन बनाए। अजरुद्दीन को भी 1986 श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट मैच में उन्हें भी इसी स्कोर पर पविलियन लौटना पड़ा था।

- पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा कि राहुल रविवार रात के बाद भी कुछ रातों तक सो नहीं पाएंगे। कपिल देव और टीम के दूसरे साथियों ने मुझे सामान्य करने की कोशिश की थी। मुझे यकीन है कि विराट कोहली और दूसरे सीनियर खिलाड़ियों ने राहुल को सांत्वना देने के लिए हर संभव कोशिश की होगी, लेकिन मैं जानता हूं कि कैसा फील होता है।

- दोहरे शतक से इस तरह चूकने पर एक बल्लेबाज की मानसिकता क्या होती है? इस सवाल पर भारत के सफलतम कप्तानों में से एक अजरुद्दीन ने कहा कि कोई कितनी भी सांत्वना दे, यह काम नहीं करेगा। आपको खुद इससे मुकाबला करना है। मैं तो कई रातों तक नहीं सो पाया था। मेरे आउट होने का दृश्य बार-बार मेरे आंखों के सामने आता था।

- हैदराबाद का यह स्टाइलिस बल्लेबाज रवि रत्नायके की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हो गया था।

- अजरुद्दीन ने कहा कि रवि रत्नायके की गेंद नीचे रह गई। यह मिडिल स्टंप को हिट करती। राहुल के लिए सबसे अच्छी चीज होगी कि वह इसे भूलकर आगे बढ़ें, लेकिन कहना करने से ज्यादा आसान है।