संघ प्रमुख भागवत ने फिर अलापा आरक्षण का राग, सुरजेवाला बोले- साजिश रच रहा है संघ

Mohan BHAGAWAT

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 अगस्त): संघ प्रमुख मोहन भागवत ने एक फिर आरक्षण का राग अलापा है। उन्होंने आरक्षण पर चर्चा की वकालत की है। उन्होंने कहा कि आरक्षण समर्थक और आरक्षण विरोधियों के बीच सार्थक माहौल में चर्चा होनी चाहिए। आपको बात दें कि आरक्षण पर वो पहले भी बयान दे चुके हैं, जिस पर काफी बवाल हो चुका है। उन्होंने कहा कि उस वक्त उनके बयान पर हुए हंगामे की वजह से आरक्षण पर पूरी चर्चा वास्तविक मुद्दे से भटक गई थी।

संघ प्रमुख ने कहा कि उन्होंने आरक्षण पर पहले भी बात की थी, लेकिन तब इस पर काफी बवाल मचा था और पूरा विमर्श असली मुद्दे से भटक गया था। भागवत ने कहा कि जो आरक्षण के पक्ष में हैं, उन्हें इसका विरोध करने वालों के हितों को ध्यान में रखते हुए बोलना चाहिए। वहीं जो इसके खिलाफ हैं उन्हें भी वैसा ही करना चाहिए। ज्ञान उत्सव के समापन सत्र में उन्होंने कहा कि आरक्षण पर बहस का परिणाम हर बार तीव्र क्रिया और प्रक्रिया के रूप में देखा गया है। इस मसले पर समाज के विभिन्न वर्गों में सौहार्द बनाने की जरूरत है। गौरतलब है कि इससे पहले संघ प्रमुख ने आरक्षण नीति की समीक्षा करने की वकालत की थी, जिसका विभिन्न दलों और जातियों ने कड़ा विरोध किया था। उन्होंने कहा कि आरएसएस, भाजपा और पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार तीनों का अलग अस्तित्व है और किसी एक के काम के लिए दूसरे को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। मोदी सरकार पर संघ के प्रभाव पर उन्होंने फिर कहा कि क्योंकि भाजपा और सरकार में संघ के कार्यकर्ता हैं, वे आरएसएस की सुनते हैं, लेकिन उनका हमसे सहमत होना जरूरी नहीं है।

कांग्रेस ने मोहन भागवत के बयान के बाद आरएसएस और बीजेपी पर निशाना साधा है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया है कि ये आरक्षण खत्म करने की साजिश है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ-बीजेपी का दलित-पिछड़ा विरोधी चेहरा उजागर हुआ। गरीबों के आरक्षण को खत्म करने की साजिश और संविधान बदलने की अगली नीति बेनकाब।