RSS किसी का विरोधी नहीं, सिर्फ हिंदुओं को एकजुट कर रहा है: मोहन भागवत

नई दिल्ली ( 14 जनवरी ): कोलकाता में मकर संक्रांति के मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने आरएसएस कार्यकर्ताओं की रैली को संबोधित किया। भागवत ने कहा, ''हमारा संगठन हिंदुओं को एकजुट कर मजबूत बना रहा है। बिना किसी का विरोध करे। पड़ोसी देश (बांग्लादेश) में हिंदुओं के हालात के लिए उनकी कमजोरी ही जिम्मेदार है।'' बता दें कि इस रैली के लिए कोलकाता पुलिस से इजाजत नहीं मिली थी, जिसके बाद संघ ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा, ''यह संगठन किसी के विरोध के लिए नहीं, बल्कि हिंदुओं की मजबूती के लिए बना है। देश में हिंदू समाज का गौरवशाली इतिहास रहा, इसके बावजूद क्या ऐसे हालात होने चाहिए थे?''उन्होंने पूछा, ''क्या आज देश में हिंदू पूरी आजादी से पूजा-पाठ और धार्मिक कार्यक्रम कर पा रहा है? क्या देश में हिंदुओं के ह्यूमन राइट्स सुरक्षित हैं?''

भागवत ने कहा कि ''अगर जवाब ना है तो फिर आपको बांग्लादेश में हिंदुओं की हालत पर आश्चर्य क्यों होता है? अपनी मौजूदा हालत के लिए वे ही जिम्मेदार हैं। हम एकजुट और मजबूत नहीं हैं, इसीलिए ऐसे हालात का सामना करना पड़ रहा है।''

कोलकाता में अपनी रैली की परमिशन मिलने में आई दिक्कत पर संघ प्रमुख ने कहा, ''यह मजाक जैसा है कि हम बाधाओं के बावजूद अपने लक्ष्य तक पहुंच जाते हैं। केशव बलिराम हेडगेवार ने भी तमाम कठिनाइयों के बाद भी हिंदुओं को मजबूत करने के लिए संघ की नींव रखी थी। अपनी पहुंच बढ़ाने के लिए कार्यकर्ताओं को काम में तेजी लानी होगी।'' उन्होंने कहा कि''आज हम भारत को सशक्त बनाने, हिंदुओं को एकजुट करने और प्रेम का संदेश फैलाने की शपथ लें। सबको अपने दिन (वक्त) और कमाई का एक तिहाई हिस्सा देश के विकास में लगाना चाहिए। बाहर खड़े नहीं रहना है, क्योंकि आपको भी विकास का हिस्सा बनना होगा।''

बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में दुर्गा पूजा के दौरान आरएसएस ने पश्चिम बंगाल के गवर्नर के.एन. त्रिपाठी से शिकायत की थी। जिसमें कहा था कि राज्य के कुछ हिस्सों में हिंदुओं को धार्मिक कार्यक्रम करने की आजादी नहीं है।