गौ रक्षकों के बचाव में उतरे मोहन भागवत

नई दिल्ली(11 अक्टूबर) राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने मंगलवार को विजयादशमी के अवसर पर नागपुर में कहा कि इस साल का दशहरा खास है। पीओके समेत पूरा कश्मीर हमारा है, भारत के विरोधियों का अंत होगा।

- गौरक्षा के मुद्दे पर भागवत ने कहा कि संविधान के दायरे में गाय की रक्षा का काम होना चाहिए। हालांकि उन्‍होंने कहा कि छोटी-छोटी बातों को बड़ी बना दिया जाता है। फिर एक बार पूरी दुनिया में भारत की सेना की प्रतिष्‍ठा ऊंची हो गई। उपद्रवी को संकेत मिला की सहन करने की मर्यादा होती है। हमारे समाज में जाति,वर्ग और भाषा के नाम पर कुछ घटनाएं होती हैं जो कि शर्मनाक हैं। जब इस तरह की घटनाएं होती हैं तो कुछ लोग लोगों में दरार पैदा करने की कोशिश करते हैं।

- विजयादशमी पर शस्त्र पूजा के बाद स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा कि कुछ ताकतें देश को बढ़ने नहीं देना चाहती हैं, ऐसी ताकतों को यह सरकार सुहा नहीं रही है। उन्होंने कहा कि उनको विश्वास है यह सरकार कुछ करेगी। यह सरकार काम करने वाली है। देश धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है।

- उन्होंने कहा कि संविधान की मर्यदा में गोरक्षा हो। जाति और धर्म के नाम पर किसी की प्रताड़ना न हो।

- उन्होंने कहा कि जम्मू और कश्मीर में चिंता की स्थिति है। पीओके समेत पूरा कश्मीर भारत का हिस्सा है। वह भारत का अविभाज्य अंग है। मीरपुर और बाल्टिस्तान भी कश्मीर की हिस्सा है।

- उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक पर मोदी सरकार की तारीफ की। भागवत ने कहा कि सरकार के नेतृत्व में अच्छा काम हुआ है। सीमा को और सुरक्षित करने की जरुरत है।