मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़कर की अबू धाबी के प्रिंस की अगवानी

नई दिल्ली (11 फरवरी): अबू धाबी के प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान का स्‍वागत करने के लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़कर हवाई अड्डे पहुंचे। अल नाहयान के साथ आए प्रतिनिधिमंडल में कई शीर्ष मंत्री और सौ से अधिक कारोबारी व शीर्ष कंपनियों के सीईओ शामिल हैं।

नाहयान के तीन दिवसीय दौरे पर दोनों देश उर्जा, अर्थव्यवस्था और सुरक्षा सहित कई क्षेत्रों में संबंधों को विस्तार देने के उपायों पर चर्चा करेंगे और तेल, परमाणु उर्जा, आईटी, अंतरिक्ष, रेलवे और इलेक्ट्रॉनिक्स जैसे क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा देने के लिए कई समझौतों पर हस्ताक्षर कर सकते हैं। दोनों नेताओं के पालम टेक्निकल एयरपोर्ट पर हाथ मिलाने की तस्वीरों को पोस्ट करते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा कि खास दोस्त के लिए खास स्वागत।

मोदी ने पिछले साल अगस्त में यूएई का दौरा किया था। यह 34 साल बाद किसी भारतीय प्रधानमंत्री का दौरा था और नाहयान ने अबू धाबी हवाई अड्डे पर उनकी अगवानी की थी। मोदी ने ट्वीट किया कि शेख मोहम्मद का यह पहला आधिकारिक भारत दौरा है और मैं प्रफुल्लित हूं कि वह अपने परिवार के साथ भारत आए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि शेख मोहम्मद एक दूरदर्शी नेता हैं। उनके दौरे से भारत और यूएई के बीच के समग्र रणनीतिक साझेदारी को नई शक्ति और गति मिलेगी।

शहजादे के भारत पहुंचने के तत्काल बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने उनसे मुलाकात की और परस्पर हितों के कई मुद्दों पर चर्चा की। तेल के मुख्य उत्पादकों में से एक यूएई की अर्थव्यवस्था कच्चे तेल के दाम कम होने से बहुत प्रभावित हुई है और उम्मीद है कि यह खाड़ी देश अपने 800 अरब डॉलर के सरकारी निवेश कोष में से भारत के उर्जा और आधारभूत क्षेत्रों में निवेश करेगा।