''अगस्ता मामले में कांग्रेस नेतृत्व को फंसाना चाहते हैं मोदी''

नई दिल्ली (5 मई): कांग्रेस प्रवक्ता जयराम रमेश ने अगस्ता वेस्टलैंड रिश्वत मामले की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में व्यापक जांच कराने की मांग करते हुए पीएम मोदी पर आरोप लगाया कि वह इसमें कांग्रेस नेतृत्व को फंसाने की साजिश कर रहे हैं।

जयराम रमेश ने कहा कि सरकार के अधीन काम करने वाली कोई एजेंसी निष्पक्ष होकर इस मामले की जांच नहीं कर सकती इसलिए कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में इसकी जांच हो। राज्यसभा में इस मुद्दे पर करीब पांच घंटे चली चर्चा के बाद रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर के जवाब को उन्होंने संसद के इतिहास में अब तक का सबसे खराब भाषण बताया और कहा कि मोदी ने रात दस बजे जिस तरह से इस भाषण की तारीफ की और संसदीय इतिहास का अभूतपूर्व और अद्वितीय भाषण करार दिया उससे उनका इरादा साफ है और अब कोई संदेह नहीं रह गया है कि वह इस मामले में कांग्रेस नेतृत्व को फंसाने का षडयंत्र कर रहे हैं।

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार के कार्यकाल में अगस्ता वेस्टलैंड मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में नहीं कराए जाने संबंधी सवाल पर उन्होंने कहा कि 2013 में इरादा मोदी को निशाना बनाकर उन्हें फंसाना नहीं था, जबकि 2016 में मंशा कांग्रेस नेतृत्व को निशाना बनाकर फंसाने का है। मोदी के लिए अच्छे दिन का मतलब है कि कांग्रेस नेतृत्व को फंसाओ, लेकिन कांग्रेस उनकी मंशा को पूरा नहीं होने देगी और इसके खिलाफ संघर्ष करेगी। उन्होंने कहा कि अगस्ता वेस्टलैंड सौदे पर राज्यसभा में रक्षा मंत्री ने इस मुद्दे पर हुई चर्चा का जो जवाब दिया है वह सब राजनीति से प्रेरित झूठे इल्जाम हैं। उनका जवाब जनसभा में दिए जोन वाले भाषण की तरह था। इस तरह का जवाब देकर पार्रिकर ने रक्षा मंत्री की गरिमा को कम किया है।