US कांग्रेस में चला मोदी का जादू: 72 बार बजी तालियां, 9 स्टैंडिंग ओवेशन

नई दिल्ली(9 जून): प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को यूएस कांग्रेस के ज्वाइंट सेशन को संबोधित किया। ऐसा करने वाले पीएम मोदी देश के छठे प्रधानमंत्री बन गए। पीएम मोदी की स्पीच की जमकर तारीफ हुई। 

हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव में मोदी के आते ही अमेरिका सांसदों ने खड़े होकर तालियां बजाईं। जब तक मोदी वहां मौजूद सांसदों से मिलते रहे, तालियां बजती रहीं। वहीं सोशल मीडिया पर यह ट्रेन्ड होने लगा कि मोदी की 48 मिनट की स्पीच के दौरान कैसे 72 बार तालियां बजीं। कम से कम 9 बार उन्हें स्टैंडिंग ओवेशन दिया गया। तीन ऐसे मौके भी आए जब अमेरिकी सांसदों ने ठहाके लगाए। 

पीएम मोदी ने संबोधन में क्या कहा...

- मोदी ने अमेरिका में मौजूद भारतीय मूल के लोगों और उनके टैलेंट की तारीफ की।

- उन्होंने कहा, ''दोनों देशों को 30 लाख इंडियन-अमेरिकन जोड़ते हैं। आपके बेस्ट सीईओ, एस्ट्रोनॉट्स, साइंटिस्ट, डॉक्टर्स और यहां तक कि स्पेलिंग बी कॉम्पीटिशन में भी भारतीय शामिल हैं। वे आपकी मजबूती तो हैं ही। लेकिन वे प्राइड ऑफ इंडिया भी हैं।''

- मोदी ने अमेरिका में योग के प्रति बढ़ते क्रेज का जिक्र किया।

- उन्होंने कहा, ''भारत के हजारों साल पुराने योग को यूएस में 3 करोड़ लोग फॉलो करते हैं। अमेरिका के लोग कर्व बॉल थ्रो करने से ज्यादा योग के लिए अपने शरीर को मोड़ते हैं।  और हमने अब तक योग पर इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट का दावा भी नहीं ठोंका है।''

- मोदी ने कहा, ''मिस्टर स्पीकर! मुझे बताया गया है कि यहां कांग्रेस में वर्किंग सौहार्द्र तरीके से होती है। यह भी पता चला कि आप हर दल को मौके देते हैं। आप अकेले नहीं हैं। मैं भी समय-समय पर भारत की संसद में ऐसा करता हूं। ...खासतौर पर अपर हाउस (राज्यसभा) में। इस तरह हमारे-आपके तरीके एक जैसे हैं।''

- मोदी ने कहा, ''दो दिन पहले मैं आर्लिंगटन नेशनल सेमिटेरी गया था जहां इस महान देश के बहादुर लोगों के स्मारक हैं और उन्हें वहां श्रद्धांजलि दी जाती है।''

- ''दुनियाभर में इंसानियत कायम रखने के लिए भारत आजादी की हिफाजत करने वाले और बहादुरों को पैदा करने वाले इस मुल्क की कुर्बानियों की तारीफ करता है।'' अमेरिकी सांसदों में लगी मोदी का ऑटोग्राफ लेने की होड़

- शुरुआत में ही मोदी का अमेरिकी सांसदों ने जोरदार स्वागत किया। - इसके बाद जैसे ही उन्होंने अपनी स्पीच खत्म की अमेरिकी सांसदों में उनका ऑटोग्राफ लेने की होड़ लग गई।