GST- यानी गुड एंड सिंपल टैक्स: मोदी

नई दिल्ली (1 जुलाई): संसद के सेंट्रल हॉल में घड़ी ने जैसे ही मध्य रात्रि 30 जून के अवसान का संकेत किया वैसे ही एक जोरदार घंटी बजी और देश में नये आर्थिक युग का प्रारंभ हो गया। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधन में कहा कि जीएसटी को कानून की भाषा में भले ही इसे गुड्स एंड सर्विस टैक्स कहा जाये लेकिन यह इसे गुड और सिंपल टैक्स है। उन्होंने कहा कि अब लेह से लेकर लक्षद्वीप तक पूरे देश में एक समान टैक्स का ढांचा खड़ा किया गया है। उन्होंने कहा कि देश के सामान्य नागरिक काफी समय से टैक्स रिफॉर्म की आवश्यकता अनुभव कर रहा था। जिसे सभी दलों के संयुक्त प्रयास से हासिल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इतने बड़े काम का सेहरा किसी एक के सिर नहीं बांधा जा सकता।