अलगाववादियों की भाषा बोल रही है कांग्रेस: बीजेपी

नई दिल्ली ( 17 फरवरी ): सेना प्रमुख के बयान को लेकर राजनीतिक पारा गर्म हो गया है। आतंकियों से मुठभेड़ के वक्त सुरक्षाबलों पर पथराव करने वाले लोगों को सेना प्रमुख के कड़े मैसेज पर सियासत शुरू हो गई है। कांग्रेस द्वारा जनरल बिपिन रावत के बयान पर विरोध जताने के बाद केंद्र की मोदी सरकार ने अब पलटवार किया है। केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ बीजेपी नेता जितेंद्र सिंह ने शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा, 'कांग्रेस जो अपने आप को राष्ट्रीय दल कहती है, सस्ती राजनीति के लिए अलगाववादियों की भाषा बोलने के लिए मजबूर हो गई है।'

जितेंद्र सिंह के मुताबिक, सेना प्रमुख  ने अपने बयान में चिंता जताई है, कोई वॉर्निंग नहीं दी। उन्होंने अपील की है कि लोग मुठभेड़ वाली जगहों के नजदीक न जाएं, लेकिन कांग्रेस उसे दूसरे तरीके से पेश कर रही है। जितेंद्र सिंह ने कहा कि फ्रस्टेशन की शिकार कांग्रेस ऐसे तरीके अपना रही है, जिनके बारे में लोकतंत्र के इतिहास में किसी ने नहीं सुना। सिंह ने कहा, 'हम राजनीतिक धड़ों और कांग्रेस से अपील करते हैं कि वे ऐसी राजनीति में न पड़ें, जिससे सुरक्षाबलों के मनोबल पर असर पड़े।'

बता दें कि आर्मी चीफ बिपिन रावत ने बुधवार को चेतावनी भरे लहजे में कहा था कि कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ सेना के ऑपरेशन्स में बाधा डालने वालों को आतंकवादियों का सहयोगी समझा जाएगा और उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। उनका इशारा सुरक्षा बलों पर पथराव करने वाले लोगों की तरफ था। रावत के इसी बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए राज्यसभा में नेता विपक्ष और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने शुक्रवार को कहा, 'पिछले साल 1000 बच्चों को स्प्लिन्टर्स लगे। 100-200 बच्चों की आंखें चली गईं। यह कहना कि हम कश्मीर के बच्चों को पकड़ लेंगे, इसे देश के लोग पसंद नहीं करेंगे।'