News

पी. चिदंबरम ने हिटलर से की पीएम मोदी की तुलना

नई दिल्ली ( 11 जनवरी ): मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले के खिलाफ कांग्रेस के जन वेदना सम्मेलन में पी चिदंबरम ने कहा कि नोटबंदी के कारण मजदूरों ने अपनी रोजी रोटी गंवाई है। वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने भारत सरकार से उन मजदूरों और किसानों के लिए मुआवजे की मांग की जिन्होंने कथित तौर पर इस नोटबंदी के कारण अपनी रोजी रोटी गंवाई है। उन्होंने कहा कि फाइनेंस सेक्रेटरी, बैंकिंग सेक्रेटरी, चीफ इकॉनमी एडवाइजर किसी को भी इस फैसले के बारे में कुछ नहीं पता। एक व्यक्ति का कहना है कि मैं शासक हूं और हर कोई इस बात से सहमत है।

पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि मुख्य आर्थिक सलाहकार ने 70 दिनों में एक शब्द नहीं कहा। कब आरबीआई ने ये मीटिंग की, 10 स्वतंत्र महानिदेशकों में सात स्थान खाली हैं। कैबिनेट मीटिंग का कोई रिकॉर्ड नहीं है, कैबिनेट नोट कहां है? जब तक पीएम ने टीवी पर नोटबंदी के फैसले का ऐलान नहीं किया, मंत्रियों को कैदियों की तरह रखा गया। उन्होंने पूर्व आरबीआई गवर्नर के बयान का हवाला देते हुए कहा, ‘पूर्व गवर्नर ने कहा था कि इस संस्थान की स्वायत्ता पर खतरा है। जीडीपी गिर गई है।

आरबीआई ने भी कहा है, पर केवल वित्त मंत्री (अरुण जेटली) ऐसे शख्स हैं जिन्होंने कहा कि जीडीपी नीचे नहीं गई पर मैं कहना चाहूंगा कि 1 प्रतिशत से देश को 1.5 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होता है। पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा कि मनमोहन सिंह जी ने संसद में कहा है कि अनुमान लगाया जा रहा है कि अर्थव्यवस्था 25 प्रतिशत तक गिर सकती है इसलिए कांग्रेस पार्टी को आम आदमी के लिए आवाज उठाना चाहिए, क्योंकि आम आदमी की किसी समस्या को उठाना हमारा काम है। किसी भी काम या बात जो आम आदमी को परेशान करती है उसकी आवाज हमें उठानी चाहिए। अगर हम ऐसा नहीं करते तो हमें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top