अब नहीं बचेंगे काले धन वाले, मोदी सरकार ने बनाया ये नया नियम

नई दिल्ली (15 जुलाई): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसी भी हाल में काले धन के कुबरों को छोड़ने के मूड में नजर नहीं आज रहे हैं। इसीलिए सरकार ने एनआरआई का दर्जा लेकर 182 दिन देश से बाहर रहने वाले लोगों से भी अपने विदेशी एकाउंट की जानकारी देने को कहा है।

दशकों से कई भारतीय हर साल 182 दिन से अधिक देश से बाहर रहकर अपने आप को एनआरआई घोषित कर अपने धन को विदेशों में ले जाकर टैक्‍स चोरी कर रहे हैं। नॉन-रेसीडेंट इंडियन या एनआरआई का दर्जा उन्‍हें यह अनुमति देता है कि विदेशों में कानूनी ढंग से की गई कमाई से प्राप्‍त धन को वे विदेशी बैंक एकाउंट में रख सकें। लेकिन अब ऐसा करना आसान नहीं होगा।

- कुछ दिन पहले, इनकम टैक्‍स विभाग ने टैक्‍स रिटर्न फॉर्म (ITR2) में एक नया प्रावधान जोड़ दिया है।

- जिसमें सभी एनआरआई को भारत से बाहर अपने सभी विदेशी बैंक एकाउंट्स की जानकारी देनी होगी।

- अधिकांश एनआरआई, वो भी जो सालों से देश से बाहर हैं, स्‍टॉक, प्रॉपर्टी और फि‍क्‍स्‍ड इनकम इंस्‍ट्रूमेंट जैसे बैंक डिपोजिट और बांड्स से प्राप्‍त आय को दिखाने के लिए भारत में टैक्‍स रिटर्न फाइल करते हैं।

- इस साल की शुरुआत से ही अब उन्‍हें अब अपने विदेशी बैंक एकाउंट्स, बैंक का नाम, देश जहां बैंक स्थित है के साथ स्‍वीफ्ट कोड और इंटरनेशनल बैंक एकाउंट नंबर (आईबीएएन) की जानकारी देनी होगी।

- स्‍वीफ्ट कोड बैंक की पहचान करने में मदद करता है, जबकि आईबीएएन एक अतिरिक्‍त नंबर है जो इंटरनेशनल पेमेंट करने या प्राप्‍त करने के लिए होता है।

- अधिकांश देशों के साथ भारत ने सूचना साझा करने का समझौता किया है।

- ऐसे में यदि कोई इस जानकारी को छुपाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

- प्रवर्तन निदेशालय को ऐसे मामलों में मनी लॉन्ड्रिंग कानून के तहत कार्रवाई करने का अधिकार है।