जल्द की विजय माल्या को भारत लेकर आएगी मोदी सरकार

नई दिल्ली (4 मई): भारतीय बैंकों के करीब 9 हजार करोड़ रुपये लेकर लंदन में जाकर बसने वाले भगोड़े कारोबारी विजय माल्या को लेकर भारत ने ब्रिटेन से जल्दी प्रत्यर्पण करने की मांग की है। 


केंद्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि ने ब्रिटेन के गृह विभाग में सचिव पेट्सी विल्किंसन से मुलाकात के दौरान माल्या के प्रत्यर्पण का मुद्दा उठाते हुए यह बात कही। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक दो घंटे तक चली बैठक में दोनों अधिकारियों ने ब्रिटेन में सक्रिय सिख आतंकवादियों और ब्रिटेन सहित अन्य यूरोपीय देशों में मौजूद आईएसआईएस के आतंकवादियों के बारे में खुफिया सूचनाएं साझा कीं।


इसके अलावा बैठक में माल्या के प्रत्यर्पण को लेकर ब्रिटेन के प्रयासों की सराहना करते हुए राजीव ने ब्रिटिश अदालत में चल रही प्रत्यर्पण की सुनवाई में भारत सरकार की ओर से हरसंभव सहयोग करने का भरोसा दिलाया।

प्रत्यर्पण प्रक्रिया को जल्द पूरा करने के लिए उन्होंने सुझाव दिया कि अगर भारतीय अभियोजन एजेंसी और ब्रिटिश अभियोजन विभाग क्राउन प्रोसीक्यूशन के बीच एकपक्षीय संवाद हो तो अदालती कार्रवाई को आसान बनाते हुए इसे जल्द पूरा किया जा सकता है।


भारत और ब्रिटेन ने 1992 में प्रत्यर्पण संधि पर हस्ताक्षर किए थे, लेकिन अब तक सिर्फ एक प्रत्यर्पण हो सका है। इसके तहत साल 2002 में हुए गोधरा कांड के बाद भड़के गुजरात दंगों में आरोपी समीरभाई विनुभाई पटेल का पिछले साल अक्टूबर में प्रत्यर्पण हुआ था।