ऑपरेशन ब्लैकमनी: 9 राज्यों में 18 नौकरशाहों के ठिकानों पर छापेमारी, यादव सिंह भी लपेटे में

नई दिल्ली ( 6 मार्च ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कालेधन रखने वालों के खिलाफ सख्त रैवया अपना लिया है। ब्लैकमनी के खिलाफ कई कदम उठाने के बाद मोदी सरकार ने अब नौकरशाहों पर नकेल कसनी शुरू कर दी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मोदी सरकार ने ऑपरेशन ब्लैक मनी 2 शुरू कर दिया है। इसके लिए 9 राज्यों के 18 नौकरशाहों के ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है।


इन नौकरशाहों में IAS, IFS और बाकी नौकरशाहों के ठिकानों पर छापेमारी जारी है। जिन इलाकों में छापेमारी की जा रही है उसमें उत्तर प्रदेश, दिल्ली, गोवा, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, तमिलनाडु और छत्तीसगढ़ आदि शामिल हैं।


उत्तर प्रदेश में तीन मामलों में पांच जगहों पर छापेमारी चल रही है। इसके साथ ही यादव सिंह के केस में भी छापेमारी चल रही है। रामेंद्र सिंह के ठिकानों पर भी ईडी की टीम पहुंच चुकी है। आपको बता दें कि रामेंद्र सिंह वही हैं जिन्होंने यादव सिंह केस में पूरे घोटाले का पर्दाफाश किया था। रामेंद्र ने साफ तौर पर बताया था कि किस ब्यूरोक्रेट्स को कितने पैसे दिए गए हैं।


इससे पहले मोदी सरकार के कहने पर प्रर्वतन निदेशालय (ईडी) ने 2 अप्रैल को देशभर में अभियान चलाया था। जिसमें 1,000 फर्जी कंपनियों का पता लगा था। इन सबके बारे में कालेधन के संदेह पर देशभर में चलाए गए सर्च ऑपरेशन के बाद पता चला। ईडी ने देशभर में 16 राज्यों में तलाशी अभियान चलाया था।


एजेंसी का मानना है कि ये संदेहास्पद कंपनियां ही देश में कालेधन की रीढ़ हैं। अंतिम जानकारी मिलने तक ईडी की टीम कोलकाता, मुंबई, अहमदाबाद, पणजी, कोच्चि, बेंगलूरू, हैदराबाद, दिल्ली, लखनऊ, पटना, जयपुर, चंडीगढ़, जालंधर, श्रीनगर, इंदौर और कुछ हरियाणा में कुल मिलाकर 110 ठिकानों पर पहुंची थी।