धमकीबाज चीन की भारत को नई गीदड़भभकी


नई दिल्ली(5 अगस्त): चीन ने मोदी सरकार पर बड़ा हमला किया है। चीन ने कहा है कि मोदी सरकार अपने देश को एक ऐसी जंग में झोंकने पर आमादा है जिसका नतीजा दुनियो को पता है।

- चीन के कहा है कि पश्चिमी मीडिया की खबरों ने भारत को भ्रम में डाल दिया है।

- चीन की सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा है कि वो युद्ध से पहले अपने लोगों को सच्चाई बताए।

- चीनी अखबार ने दंभ भरते हुए अपनी सेना को 50 साल में सबसे मजबूत बताया है। 

- कम्यूनिस्ट पार्टी के अखबार के संपादकीय में लिखा गया है कि मोदी सरकार अपने लोगों से झूठ बोल रही है कि 2017 वाला भारत 1962 से अलग है। पिछले 50 सालों में दोनों देशों की ताकतों में सबसे बड़ा अंतर है। अगर मोदी सरकार युद्ध करना चाहती है तो उसे कम से कम लोगों को सच्चाई बतानी चाहिए।

- अखबार ने कहा कि पीएलए ने सैन्य टकराव के लिए पर्याप्त तैयारी की है। युद्ध की स्थिति में परिणाम जगजाहिर है। मोदी सरकार पीएलए की ताकत के बारे में पता होना चाहिए। भारतीय सीमा पर तैनात सैनिक पीएलए क्षेत्र बलों के लिए कोई प्रतिद्वंद्वी नहीं हैं। यदि की स्थिति में पीएलए सीमा क्षेत्र में सभी भारतीय सैनिकों को खत्म करने में पूरी तरह सक्षम है।

- अखबार ने कहा कि चीन ने संयम का प्रयोग किया है, साथ ही शांति और मानव जीवन के प्रति सम्मान का प्रदर्शन किया है। पीएलए ने पिछले महीने भी कोई कार्रवाई नहीं की थी, जब भारतीय सैनिकों ने चीनी क्षेत्र में बेवजह रूप से उल्लंघन किया। अगर मोदी सरकार चीन की सद्भावना को कमजोरी मानती रही, तो यही लापरवाही विनाश की ओर ले जाएगा। भारत सार्वजनिक रूप से उस देश को चुनौती दे रहा है जो ताकत में कहीं ज्यादा श्रेष्ठ है। भारत की लापरवाही से चीनी हैरान हैं।