मोदी सरकार के लिए 2019 में ये चीजें बनेंगी रोड़ा!

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (16 जून): देश में चुनाव के समय जब भी सब्जियों के दामों में उतार चड़ाव आता है कहीं न कहीं इसका असर साफतौर पर मुख्यधारा की राजनीति कपर पड़ता है इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है। अब ऐसे में 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर एनडीए सरकार यह नहीं चाहती कि 2019 की उसकी वापसी की संभावना में किसी भी तरह की ऐसी परेशानी रहे जिससे सरकार बना में जरा भी परेशानी आए।जानकारी के लिए आपको बता दें कि सरकार की ओर से इसे लेकर प्रयास किया जा रहा है कि चुनावी साल में ऐसा कुछ न हो सके। गौरतलब है कि इसी मकसद से सरकार ने ऑपरेशन ग्रीन के लिए 500 करोड़ रुपये का आवंटन किया है। इसका मकसद राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण और कीमतों के उतार-चढ़ाव से गुजरने वाली सब्जियों- आलू, टमाटर और प्याज की बेहतर सप्लाइ सुनिश्चित करना है।आपको बता दें कि अंतर-मंत्रालयी समूह की बैठक में यह बात निकलकर सामने आई है कि आलू और प्याज की कीमतों में तेज उतार-चढ़ाव की वजह उत्पादन नहीं बल्कि स्टोरेज है। मीटिंग में यह बात सामने आई कि आलू अपने आप में कम समस्या है क्योंकि इसे कोल्ड स्टोरेज में 8 महीनों तक रखा जा सकता है। यही नहीं कोल्ड स्टोरेज की संख्या इतनी है कि इसे बड़े पैमाने पर रख सकते हैं।