मोदी के मंत्रिमंडल से हुई इन 6 मंत्रियों की छूट्टी, जानें कारण...


नई दिल्ली (3 सितंबर):
मोदी सरकार में तीसरी बार मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ है, जिसमें 9 नए मंत्रियों ने शपथ ली जबकि 4 मंत्रियों का प्रमोशन हुआ। लेकिन इससे इतर मोदी ने 6 मंत्रियों से भी इस्तीफा लेकिया, जिसमें लघु उघोग मंत्री कलराज मिश्र समेत संजीव बालियान जैसे दिग्गज नेता शामिल हैं।

हालांकि बीजेपी की फायर ब्रांड नेता उमा भारती की कुर्सी बच गई। सियासी गलियारों में यह सवाल भी घूम रहा है कि 6 मंत्री जो केंद्रीय कैबिनेट से हट चुके हैं, उनके जाने के पीछे की असली वजहें क्या रही हैं?

जानिए वो कारण जो इन मंत्रियों के इस्तीफे के पीछे रहे...

1. कलराज मिश्र (लघु उद्योग मंत्री)
इस्तीफे की वजह

उत्तर प्रदेश के कद्दावर बीजेपी नेता कलराज मिश्र लघु उद्योग मंत्री के तौर पर काम कर रहे थे. उन्होंने अपने इस्तीफे की वजह अपनी बढ़ी हुई उम्र को बताया है. कलराज मिश्र की उम्र 75 से ज्यादा है. हालांकि ये सुगबुगाहट है कि इन्हें किसी राज्य का राज्यपाल बनाया जा सकता है.

2. बंडारू दत्तात्रेय (केंद्रीय श्रम मंत्री)
इस्तीफे की वजह

बंडारू दत्तात्रेय के इस्तीफे की वजह पीएम मोदी के दिए गए लक्ष्य को पूरा ना कर पाना बताई जा रही है और इन्हें भी बीजेपी संगठन की जिम्मेदारी मिल सकती है.

3. राजीव प्रताप रूडी (कौशल विकास मंत्री)
इस्तीफे की वजह

बिहार के सारन से सांसद राजीव प्रताप रूडी के इस्तीफे के पीछे भी निराशाजनक प्रदर्शन ही वजह बताई जा रही है. उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन ना करने के चलते इनकी मोदी कैबिनेट से छुट्टी हो गई है. मंत्री पद से हटने के बाद इन्हें भी संगठन में बड़ी ज़िम्मेदारी मिल सकती है.

4. संजीव बालियान (जल संसाधन राज्य मंत्री)
इस्तीफे की वजह

केंद्र सरकार में जल संसाधन राज्य मंत्री रहे संजीव बालियान इस्तीफा देने वाले सबसे पहले नाम में शामिल थे. अफसरों से तालमेल नहीं बिठा पाना इनके इस्तीफे की वजह बताई जा रही है. बालियान के खिलाफ नकारात्मक माहौल भी उनके इस्तीफे के पीछे की वजह हो सकती है.

5. फग्गन सिंह कुलस्ते (स्वास्थ्य राज्य मंत्री)
इस्तीफे की वजह

सरकार में दी गई खास भूमिका निभाने में नाकाम रहने के चलते फग्गन सिंह कुलस्ते को इस्तीफा देना पड़ा. माना जा रहा है कि केंद्र से जाने के बाद उन्हें एमपी बीजेपी अध्यक्ष बनाया जा सकता है.

6. महेंद्र नाथ पांडे (शिक्षा राज्य मंत्री)
इस्तीफे की वजह

महेंद्र नाथ पांडे ने एक व्यक्ति, एक पद के सिद्धांत को मानते हुए खुद केंद्रीय कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया. इन्हें हाल ही में यूपी बीजेपी का अध्यक्ष बनाया गया है.