चारों नौकरशाहों को PM मोदी ने दी अहम जिम्मेदारी, 3 को दिया स्वतंत्र प्रभार

नई दिल्ली (3 सितंबर): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में आज बड़ा फेरबदल और विस्तार हुआ है। इस विस्तार में प्रधानमंत्री ने पूर्व नौकरशाहों पर बड़ा भरोसा दिखाया है। मोदी मंत्रिमंडल में शामिल किए गए 9 नए चेहरों में से 4 पूर्व नौकरशाह हैं। इनमें से तीन को स्वतंत्र प्रभार दिया गया है।

1979 बैच के केरल कैडर के पूर्व IAS अधिकारी अल्फोंस कन्नथनम, 1974 बैच के IFS अधिकारी रहे हरदीप पुरी,  पूर्व गृहसचिव आर के सिंह, मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर सत्यपाल सिंह को पहली बार मंत्री बनाया गया है।

अल्फोंस कन्नथनम-
1979 केरल बैच के पूर्व IAS अधिकारी अल्फोंस कन्नथनम को प्रधानमंत्री मोदी ने पर्यटन मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार दिया है। अल्फोंस कन्नथनम दिल्ली में डीडीए के चेयरमैन रह चुके है। दिल्ली में कमिश्नर रहते हुए उन्होंने 14310 अवैध इमारतों को गिरा दिया था। जिसके बाद अल्फोंस काफी चर्चा में आए थे। उन्हें 1994 में टाइम्स मैगजीन ने 100 यंग ग्लोबल लीडर्स की सूची में शामिल किया था। अल्फोंस रिटायरमेंट के बाद केरल से एक बार विधायक भी रह चुके हैं। प्रधानमंत्री की तरफ से उन्हें बाकी लोगों पर तरजीह देकर उनके अनुभव का फायदा लेने की कोशिश की गई है। दरअसल बीजेपी के एजेंडे में केरल की अहमियत इस वक्त काफी ज्यादा है। अगले लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखकर संघ और बीजेपी ने केरल के लिए बड़ी रणनीति बनाई है। अल्फोंस इसी रणनीति के तहत मंत्री बनाए गए हैं।

हरदीप पुरी-
प्रधानमंत्री मोदी ने 1974 बैच के IFS अधिकारी हरदीप पुरी को हाउसिंग और शहरी विकास मामले का स्वतंत्र प्रभार दिया है। हरदीप सिंह पुरी इस वक्त किसी सदन के सदस्य नहीं हैं फिर भी उनके अनुभव को तरजीह देते हुए प्रधानमंत्री मोदी अहम जिम्मेदारी दी है। सिख समुदाय से आने वाले हरदीप पुरी को शामिल कर एक तीर से कई निशाने साधने की कोशिश की गई है। हरदीप पुरी संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत और स्थायी प्रतिनिधि भी रह चुके हैं।

आरके सिंह- 
बिहार काडर के 1975 बैच के पूर्व आईएएस अधिकारी आर के सिंह को प्रधानमंत्री मोदी ने  ऊर्जा एवं नवीकरणीय एवं अक्षय ऊर्जा मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार दिया है। आर के सिंह बिहार के आरा से सांसद हैं। आर के सिंह फैमिली वेलफेयर पर बनी संसदीय समिति के मेंबर भी हैं। वह देश के गृह सचिव के पद पर भी रह चुके हैं। सांसद बनने से पहले वह डिफेंस प्रोडक्‍शन सेक्रेटरी, ज्‍वाइंट सेक्रेटरी (गृह मंत्रालय) और अन्‍य कई अहम पदों पर काबिज रह चुके हैं। 

सत्यपाल सिंह-
1980 बैच के पूर्व आईपीएस अधिकारी को प्रधानमंत्री ने अपने कैबिनेट में जगह दी है। बागपत से बीजेपी सांसद सत्यपाल सिंह गृह मंत्रालय की स्थायी समिति के सदस्य हैं। सत्यपाल सिंह मुंबई के पुलिस कमिश्नर भी रह चुके हैं। मुंबई में अपराधी गिरोहों के खिलाफ बड़ा अभियान चलाया था। नक्सलवाद और आदिवासियों से जुड़े मुद्दों पर कई किताबें लिखीं हैं। संस्कृत और वैदिक अध्ययन के साथ आध्यात्मिक विषयों के जानकार हैं। सत्यपाल सिंह ने केमिस्ट्री में एमएससी-एमफिल, ऑस्ट्रेलिया में एमबीए, पीएचडी की है।